गुजरात के नर्मदा ज़िले की साधु पहाड़ियों पर स्थित 'स्टैचू ऑफ़ यूनिटी' दुनिया की सबसे ऊंची मूर्ति है. सरदार वल्लभभाई पटेल की इस प्रतिमा की ऊंचाई 182 मीटर है. 30 अक्टूबर 2018 को पूरे 5 साल में बनकर तैयार हुई इस मूर्ति को बनाने में करीब 2,989 करोड़ रुपये का खर्चा आया था. 

Source: vsrsnews

दरअसल, 'स्टैचू ऑफ़ यूनिटी' के पास में एक डायनासॉर की मूर्ति भी बनाई गयी थी. करीब 30 फ़ुट ऊंची ये मूर्ति 2 करोड़ की लागत से बनी थी. बनाने के एक महीने के भीतर ही 8 सितंबर को ये भव्य मूर्ति अचानक से ढह गई.

साधू पहाड़ी पर खड़ी सरदार पटेल की प्रतिमा के अलावा राज्य सरकार ने पर्यटकों को लुभाने के लिए सरदार सरोवर डैम के आस-पास कई अन्य अट्रैक्शन प्वाइंट भी बनाए हैं. डायनासॉर की मूर्ति भी इनमें से एक थी. यहां पर एक आलिशान म्यूजियम और एक ख़ूबसूरत बगीचा भी बनाया गया है. 

बताया जा रहा है कि 8 सितंबर के दिन भी यहां कई पर्यटक आये हुए थे. अच्छी बात ये रही कि मूर्ति के ढहने के वक़्त किसी भी शख़्स को चोट नहीं आई है. 

Source: dnaindia

ज़ाहिर सी बात है कि इस मूर्ति के ढहने के बाद सवाल तो उठने ही थे. आख़िर 2 करोड़ रुपये ख़र्च करने के बावजूद 1 साल के अंदर मूर्ति कैसे ढह गई? क्या इसकी क्वालिटी ख़राब थी? या फिर जिस जगह पर इसे बनाया गया था उसकी सही से जांच नहीं की गई थी? 

इससे पहले भी 'स्टैचू ऑफ़ यूनिटी' के म्यूजियम हॉल में पानी टपकने की बात सामने आ चुकी है.