हर साल की तरह इस साल भी दिल्ली 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस परेड की मेज़बानी करने के लिए तैयार है. लेकिन इस बार की परेड थोड़ी स्पेशल होने जा रही है.

इस बार इतिहास में पहली बार कोई महिला Flypast का नेतृत्व करेगी. इस साल की परेड में फ़्लाइट लेफ़्टिनेंट, स्वाति राठौर Flypast का नेतृत्व करते हुए इतिहास रचेंगी.

Source: thestatesman

मूल रूप से राजस्थान के नागौर जिले की रहने वाली स्वाति ने अपनी स्कूली शिक्षा अजमेर से पूरी की है. उन्हें अपने माता-पिता का पूरा सहयोग मिला. वो आगे भारतीय वायुसेना में पायलट बनने के सपने को पूरा करने के लिए जी-तोड़ मेहनत करती रहीं. स्वाति ने 2013 में Force Common Admission Test में भाग लिया और पहले ही प्रयास में सफ़ल हुईं. 

देहरादून में हुए इंटरव्यू के आख़िरी राउंड में वो 200 लड़कियों के ग्रुप में से अकेली लड़की थी जिसे फ्लाइंग ब्रांच के लिए चुना गया था. 

राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे समेत कई लोगों ने स्वाति को बधाई ट्विटर पर बधाई दी है. 

उनके पिता डॉ. भवानी सिंह राठौर, जो राज्य के कृषि विभाग में उप निदेशक हैं, अपनी अपनी बेटी की उपलब्धियों पर गौरवान्वित हैं.  

लेफ्टिनेंट स्वाति राठौर के अलावा फ़्लाइट लेफ़्टिनेंट, भावना कंठ भी परेड में भारतीय वायु सेना (IAF) की झांकी का हिस्सा होंगी. वो इस समारोह में हिस्सा लेने वाली पहली महिला फाइटर पायलट बनेंगी. 

Source: .news18.com

स्वाति राठौर और भावना कंठ जैसी महिलाएं युवा लड़कियों के लिए एक प्रेरणा हैं.