इलाहाबाद हाईकोर्ट ने यूपी में 'नागरिकता संशोधन कानून' के विरोध में हुई हिंसा के बाद आरोपियों के होर्डिंग्स लगाने के मामले में लखनऊ के डीएम और पुलिस कमिश्नर को इस तरह के सभी पोस्टर तुरंत हटाने के निर्देश दिए हैं.

Source: indianexpress

हाईकोर्ट ने इसके साथ ही इस मामले में 16 मार्च तक रिपोर्ट रजिस्ट्रार जनरल को सौंपने के निर्देश दिए हैं. अब इस मामले की सुनवाई 16 मार्च को होगी.

लखनऊ के प्रमुख चौराहों पर 53 आरोपियों के पोस्टर लगाए गए हैं.

Source: news18

क्या है पूरा है मामला?

दरअसल, नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में पिछले साल 19 दिसंबर को लखनऊ के ठाकुरगंज और कैसरबाग क्षेत्र में हुई हिंसा के आरोपियों के ख़िलाफ़ एडीएम सिटी (पश्चिम) की कोर्ट से वसूली आदेश जारी हुआ था. इस दौरान लखनऊ के कई इलाकों में हिंसा फैलाने वाले सभी ज़िम्‍मेदार लोगों के पोस्टर व बैनर लगाए गए थे.

Source: todayheadlinenews

इस मामले में लखनऊ ज़िलाधिकारी अभिषेक प्रकाश का कहना था कि हिंसा फैलाने वाले सभी ज़िम्‍मेदार लोगों के लखनऊ में पोस्टर व बैनर लगाए गए हैं. इन सभी की संपत्ति की कुर्क की जाएगी. सभी चौराहों पर ये पोस्टर लगाए गए हैं, जिससे उनके चेहरे बेनक़ाब हो सकें.

Source: bhaskar

बीते रविवार को इस मामले की सुनवाई के दौरान चीफ़ जस्टिस गोविन्द माथुर और जस्टिस राकेश सिन्हा की स्पेशल बेंच ने सरकार को इस तरह के सभी पोस्टर हटाने के निर्देश दिए हैं. इसके साथ ही कोर्ट ने साफ़ तौर पर कहा कि बिना दोषी करार दिए इस तरह के पोस्टर लगाना निजता का हनन है.

Source: hindustantimes

वहीं सरकार की तरफ़ से महाधिवक्ता राघवेंद्र प्रताप सिंह ने दलील देते हुए कहा कि सरकार ने ऐसा इसलिए किया ताकि आगे भी इस तरह से सार्वजानिक संपत्तियों को नुकसान न पहुंचाया जा सके.

Source: thehitavada

न्यूज़ 18 इंडिया की ख़बर के मुताबिक़, अब योगी सरकार इलाहाबाद हाईकोर्ट का पूरा फैसला आने के बाद इसके ख़िलाफ़ सुप्रीम कोर्ट जा सकती है.