दिल्ली मेट्रो से सफ़र करते हुए आपने एक नीले रंग की ड्रेस में हाथ जोड़े खड़ी एक बच्ची की फ़ोटो ज़रूर देखी होगी. ये दिल्ली मेट्रो का शुंभकर यानी Mascot है जिसका नाम 'मैत्री' है. मैत्री कैसे दिल्ली मेट्रो का शुभंकर बनी इसकी कहानी भी काफ़ी दिलचस्प है.

दरअसल, साल 2012 में इस बच्ची का जन्म दिल्ली मेट्रो में ही हुआ था. बच्ची की मां जूली देवी जब प्रेग्नेंट थी तब वो दिल्ली मेट्रो से फ़रीदाबाद से सफ़दरजंग अस्पताल जा रही थीं. रास्ते में ही उन्हें लेबर पेन होने लगा.

Source: buzz

ख़ान मार्केट मेट्रो स्टेशन पर दो महिलाओं की मदद से उन्होंने मेट्रो में ही एक बच्ची को जन्म दिया. ये पहली बच्ची थी जिसका जन्म मेट्रो के अंदर हुआ. मेट्रो के कर्मचारियों ने सेंट्रल सेक्रेटिएट स्टेशन पर जूली और उनकी बच्ची को राम मनोहर लोहिया अस्पताल ले जाने का इंतजाम किया.

Source: twitter

दिल्ली मेट्रो की शुंभकर मैत्री से जुड़ी ये जानकारी हमें एक ट्विटर थ्रेड मिली थी. इसे राहुल पाल नाम के एक यूज़र ने शेयर किया था. उन्होंने ये भी बताया कि बच्ची के माता-पिता ने उसका नाम मैत्री रखा था. क्योंकि इसका मतलब दोस्ती होता है और ये मेट्रो से मिलता-जुलता है. आजकल मैत्री डीएमआरसी द्वारा किए गए ट्विट्स में मास्क और दस्ताने पहन कर लोगों को कोरोना वायरस के प्रति जागरूक करती नज़र आती है.

Source: twitter

क्या आप दिल्ली मेट्रो की शुभंकर मैत्री से जुड़ी ये स्टोरी जानते थे?

News के और आर्टिकल पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.