कुछ सालों में दुनियाभर के मुल्क़ों में घरेलू हिंसा के मामलों में काफ़ी बढ़ोतरी देखने को मिली है. ऐसे में अमेरिका के लुसियाना के रहने वाली एक बुज़ुर्ग़ दादी, जो ख़ुद अपने पति के द्वारा मानसिक रूप से प्रताड़ित की गई हैं, ने अब सोशल मीडिया पर अपनी कहानी के ज़रिए दूसरों को प्रोत्साहित करने का फैसला किया है.

Source: storypick

73 वर्षीय फ़्लोरा यंग ने पहली बार लोकप्रिय वीडियो शेयरिंग एप का इस्तेमाल अपनी पोती ओलिविया के जुड़ने के लिए किया था, लेकिन जल्द ही उन्होंनें अपनी शादी के बारे में बात करने और अन्य महिलाओं को अपमानजनक रिश्तों से बाहर निकलने और उन्हें लिए सशक्त बनाने के लिए छोटे-छोटे वीडियो बनाना शुरू कर दिया.

KATC को उन्होंनें बताया कि, ‘मुझे मेरे पति द्वारा मानसिक रूप से प्रताड़ित किया गया था, और मेरे ज़्यादतर TikTok वीडियो इसी बारे में हैं.’

उन्होंने अपने पूर्व पति का रिस्पांस भी रिकॉर्ड किया है कि फ़्लोरा इतनी सशक्त नहीं हैं कि उसे छोड़ पाएं.

फ़्लोरा कहती हैं कि, ‘एक अपमानजनक रिश्ते में बंधे रहकर घुटते रहने से अच्छा है कि हम उससे बाहर निकल आएं.’

‘ज़्यादातर लोग कहेंगे कि मुझे यक़ीन नहीं हो रहा है कि तुम्हारे तीन बच्चे होने के बाद भी तुम उसे छोड़ने जा रही हो. सही माने में तो आपको अपने बच्चों के लिए उसे छोड़ देना चाहिए. क्योंकि अपने माता-पिता को ऐसा देखकर उन पर ज़्यादा बुरा असर होगा.’

उन्होंने एक वीडियो बनाया, जिसमें उन्होंने 1970 के दशक का एक्सपीरियंस शेयर किया, जब क़ानून बनाने वालों को ये समझाना बेहद मुश्क़िल था कि वो घरेलू हिंसा पर आंख न बंद कर लें.

अपने कई वीडियो के ज़रिए उन्होंने बताया कि 70 के दशक में जब वो अपने पति से अलग हुईं तो उन्हें कैसा को वापस छोड़ने महसूस हुआ.

फ़्लोरा को ये जानकर बेहद खुशी हो रही है कि वो अपने ‘क्रेजी’ वीडियोज़ के ज़रिए दूसरों की मदद कर पा रही हैं. ‘वो कमंट्स करेंगे कि मैं उन्हें कैसे प्रोत्साहित कर रही हूं. बहुत से लोगों के लिए छोड़ना बड़ा मुश्क़िल होता है. ये उन्हें एक प्रोत्साहन, साहस देता है कि वो उठे और जो करना चाहते हैं वो करें. मुझे खुशी है अगर वे एक दादी को देखकर खुश होते हैं क्योंकि बहुत सारी दादियों को एक्ट करना और क्रेज़ी होना पंसद नहीं है.’

दुनियाभर के देशों में इस वक़्त कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन है और इस दौरान घरेलू हिंसा के मामलों में भी इज़ाफ़ा देखने को मिला है. ऐसे कठिन समय में फ़्लोरा के वीडियो निश्चित तौर पर बहुत से लोगों की मदद करेंगे.