अच्छा हुआ जो शेक्यपियर चचा समय रहते निकल लिए, नहीं तो आज दौड़ा लिए गए होते. ग़लती से हाथ लगे होते तो पकड़ के कान दिए जाते मरोड़. काहे कि चचा भावुकता में बोल गए थे कि ‘नाम में क्या रखा है’?

Source: indiatimes

अमा नाम में क्या रखा है, ये ऑस्ट्रिया के इस गांव वालों से पूछो. काहे कि यहां के लोगों को अपने नाम के चलते कई सालों से बेज्जती उठानी पड़ रही है, वो भी भयंकर वाली. क्योंकि इस बेचारे गांव का नाम है फ़किंग (Fucking).

जी हां, तफ़री नहीं कर रहे, बात हैं एकदम सच्ची. ऑस्ट्रिया के इनवर्टेल इलाके के Tarsdorf म्यूनिसिपिलटी में Fucking गांव आता है. ये Salzburg से 33 किलोमीटर दूर और जर्मनी की सीमा पर स्थित है.

Source: indiatimes

अपने इस गालीनुमा नाम के चलते गांव वालों को काफ़ी बेज्जती महसूस होती है. यही वजह है कि इस गांव के टाउन काउंसिल ने अब इसका नाम बदलने का फ़ैसला कर लिया है. कुछ दिन बाद इसे फगिंग (Fugging) के नाम से जाना जाएगा.

मेयर Andrea Holzner ने बताया कि पर्यटक इसके साइन बोर्ड के नीचे तस्वीरें लेते हैं और फिर उसे सोशल मीडिया पर वायरल कर देते. कुछ ने तो साइन बोर्ड ही चोरी कर लिया. जिसके चलते गांव की बदनामी हो रही थी.

Source: indiatimes

ऐसे में तय किया गया है कि अब इसका नाम बदलकर फगिंग किया जाएगा. 1 जनवरी 2021 से ऑस्ट्रिया के फकिंग Fucking गांव का नाम फगिंग Fugging हो जाएगा.