देशभर में इन दिनों चुनावी माहौल है. ऐसे में क्या नेता, क्या उनके समर्थक, हर कोई चुनाव प्रचार में लगा हुआ है.

व्यक्तिगत हित में नहीं, देशहित में वोट करें.

वोट देते समय चित्र नहीं, चरित्र देखा जाना चाहिए.
सिर्फ़ जाति के नाम पर वोट न करें. नेता चुन रहे हो, अपना जीजा नहीं.

Source: navbharattimes

दरअसल, गुरुग्राम का एक परिवार देश के मतदाताओं से कुछ इसी तरह की अपील कर रहा है. परिवार के सभी लोग शहर में घूम-घूम कर लोगों को मतदान के प्रति जागरूक करने का काम कर रहे हैं. ये लोग हर रोज़ शहर के चौक-चौराहों पर हाथ में होर्डिंग्स और बैनर लेकर खड़े हो जाते हैं.

Source: navbharattimes

गुरुग्राम के जैकबपुरा निवासी धर्मबीर वर्मा पेशे से ऐडवोकेट हैं. धर्मबीर देश के सच्चे नागरिक होने का फ़र्ज़ बख़ूबी निभा रहे हैं. इसके लिए उनका पूरा परिवार लोगों से इस लोकसभा चुनाव के दौरान वोट करने और सही कैंडिडेट को वोट करने की अपील कर रहा है. ये परिवार हर दिन 2 से 3 घंटे के लिए लोगों जागरूकता फैलाने का काम करता है.

Source: delhincrnews

सिर्फ़ इतना ही नहीं, धर्मबीर वर्मा पिछले आठ सालों से शहर में रोड सेफ़्टी के लिए भी काम कर रहे हैं. उन्होंने जैकबपुरा के अलावा पटौदी, कोकलावन और चंडीगढ़ में भी ट्रैफ़िक कंट्रोल का काम किया है.

Source: delhincrnews

अब चुनावी माहौल में परिवार का मुखिया होने के नाते धर्मबीर वर्मा अपने बच्चों के साथ लोगों से वोट करने की अपील कर रहे हैं. शहर के प्रकाशपुरी चौक पर ये लोग अपने हाथों में मतदान के प्रति जागरूक करने वाले स्लोगन लिखी तख्तियां लेकर खड़े मिल जायेंगे. ये लोग हर दिन दो से तीन घंटे यही काम करते हैं. जबकि धर्मबीर वर्मा की पत्नी सपना वर्मा इस मुहिम को सोशल मीडिया पर लोगों तक पहुंचाती हैं.

Source: navbharattimes

इस दौरान धर्मबीर की 10 वर्षीय बेटी भाविका कहती हैं कि जब हम सभी मतदान करेंगे, तभी लोकतंत्र मज़बूत होगा. वहीं साढ़े सात साल के पार्थ कहते हैं कि वोट देकर हम एक ईमानदार और मज़बूत सरकार चुन पाएंगे.

जागरूकता के लिए 21 अप्रैल को करेंगे प्ले

Source: navbharattimes

जागरूकता अभियान के तहत धर्मबीर वर्मा के बच्चे 21 अप्रैल को शहर के कमला नेहरू पार्क में एक प्ले करने जा रहे हैं. भाविका और पार्थ इससे पहले भी समय-समय पर जागरूकता अभियान में हिस्सा ले चुके हैं.

शहर के गुरुद्वारा रोड स्थित सिद्धेश्वर स्कूल में 5वीं में पढ़ने वाली भाविका और तीसरी में पढ़ने वाले पार्थ स्कूल में बच्चों को जबकि घर पर आस-पड़ोस के लोगों को मतदान के लिए जागरूक करने का काम करते हैं.