महात्मा गांधी ने कहा था कि ‘ये धरती हर इंसान की ज़रूरतों को पूरा करने के लिए पर्याप्त है, लेकिन उसके लालच को नहीं’. हम लोगों ने भी इस विचार को बड़ी इज़्ज़त देते हुए किनारे कर दिया. नतीजा, जो पर्यावरण कभी इंसानों की ज़िंदगी बचाता था, आज ख़ुद उस पर ही ख़तरा मंडराने लगा है.

Source: twitter

ऐसे में पर्यावरण को बचाने के लिए एक छोटा सा प्रयास भी दिल को बेहद सुकून पहुंचाता है. मसलन मणिपुर के इस बांस के बने टिफ़िन बॉक्स को ही ले लीजिए. यूं तो बाज़ारों में तरह-तरह के टिफ़िन बॉक्स मिल जाते हैं, वो भी हर क़ीमत पर. लेकिन ज़्यादातर टिफ़िन प्लास्टिक के बने होने के कारण पर्यावरण को काफ़ी नुक़सान पहुंचाते हैं.

ऐसे में मणिपुर के Churachandpur में Zogam Bamboo ने इकोफ़्रेंडली टिफ़िन बॉक्स बनाए हैं, जो उपयोगी होने के साथ-साथ पर्यावरण के भी अनुकूल हैं. बांस के बना ये खाने का डिब्बा प्लास्टिक टिफ़िन बॉक्स का बढ़िया विकल्प हैं.

आईएफ़एस अधिकारी सुधा रेमन ने इसका एक वीडियो भी ट्वीट किया है, जिसमें इस टिफ़िन कैरियर का फ़्रेमवर्क दिखाया गया है. इस टिफ़िन को आसानी से अलग किया जा सकता है, साथ ही इसमें लॉक भी लगा है. ये पूरा टिफ़िन बांस का ही बना है.

इसके साथ ही सुधा ने इसे बनाने वाले संगठन की कॉन्टैक्ट इंफ़ार्मेशन भी शेयर की है. Golan Naulak इसं संगठन के प्रमुख हैं. उन्होंने भी इस अनोखे टिफ़िन कैरियर की डिटेल शेयर करते हुए लिखा, ‘स्थानीय संसाधनों का इस्तेमाल करते हुए पर्यावरण अनुकूल उत्पाद बनाना कोविड-19 के बाद अर्थव्यवस्था की स्थिरता और उसे पुनर्जीवित करने में अहम भूमिका निभाएगा.’

बता दें, ट्विटर पर इस वीडियो को अब तक 42 हज़ार से ज़्यादा बार देखा जा चुका है. लोग इस अनोखे प्रोडेक्ट को लेकर काफ़ी उत्सुक नज़र आ रहे हैं.