स्कूल के वो दिन कभी वापस नहीं आएंगे, चाहे जितनी भी कोशिशें कर लो. हमारे स्कूलों में आमतौर पर अंग्रेज़ी, हिन्दी, सोशल साइंस, मैथ, साइंस, कंप्यूटर ही पढ़ाया जाता था. नामी गिरामी स्कूलों में स्वीमिंग, मार्शल आर्ट्स, गार्डनिंग, कढ़ाई वगैरह भी सिखाया जाता है.

Source: Bored Panda

क्या ये सब लाइफ़ जीने के लिए काफ़ी है. स्कूलों में आज भी वही करिकुलम है और मज़े की बात ये है कि स्कूल में पढ़ाया गया बहुत कुछ बड़े होने पर काम नहीं आता. लाइफ़ स्किल्स, जैसे छोटे-मोटे बिजली के काम, प्लम्बिंग का काम, कारपेंट्री का काम ये सब हम बड़े होने के बाद YouTube से सीखते हैं. 

सोचिए अगर ऐसे लाइफ़ सेविंग स्किल्स स्कूल में ही सिखाए जाते तो?
 Bored Panda की रिपोर्ट के अनुसार, एक स्कूल ने बच्चों को कार मेन्टेनेन्स और ऑटोमेटिव DIY सीखाने का निर्णय लिया है. ये स्किल्स ख़ासतौर पर छात्राओं को सिखाई जा रही है.

कार मेन्टेनेन्स और बेसिक मैकेनिक स्किल्स किसी स्कूल में नहीं सिखाया जाता.

Source: Bored Panda
Source: Bored Panda

ऑस्ट्रेलिया के स्कूल में ग्रेड 11 की छात्राओं और टीनेजर्स को कार मेन्टेनेन्स करना सीखाया जा रहा है. छात्राओं को टायर कैसे बदलना है, टायर प्रेशर कैसे चेक करना है, तेल, Coolant Level, कार क्रैश में क्या करना है आदि बताया गया

Source: Bored Panda

महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए Galmatic कार मेन्टेनेन्स स्कूल ने ये पहल की है.