तेलंगाना के एक मंदिर में दशहरा के अवसर पर देवी की प्रतिमा को एक करोड़ रुपये के नोटों से सजाया गया. ये अनूठी पेशकश जोगुलम्बा गडवाल जिले में स्थित कन्या का परमेश्वरी देवी मंदिर में की गई, जहां आयोजकों ने एक करोड़ रुपये से ज़्यादा के नोटों को फूल का आकार देकर मंदिर को सजाया. 

बता दें, आर्य वैश्य संघ के तत्वावधान में नवरात्रि के दौरान धनलक्ष्मी के अवतार में बड़ी संख्या में भक्तों ने देवी की पूजा की. मंदिर के कोषाध्यक्ष पी रामू के मुताबिक, बीते साल तो मंदिर में देवी की पूजा में तीन करोड़ से भी ज्यादा करेंसी नोट का इस्तेमाल किया गया था. 

आयोजकों का कहना है कि इस काम के लिए उन्होंने कई आर्टिस्ट की मदद ली, जिन्होंने विभिन्न रंगों के करेंसी नोटों को माला और गुलदस्ते के आकार में अरेंज किया.

इस आयोजन की सबसे दिलचस्प बात है कि ये नोट स्थानीय समुदाय के लोग पूजा के लिए देते हैं. पूजा संपन्न हो जाने के बाद नोट उन्हें वापस कर दिए जाते हैं. बताया गया कि महामारी और वित्तीय संकट के चलते आयोजक इस बार कम राशि जुटा सके. 

दशहरे के दिन माना जाता है कि देवी अपने पैतृक घर - पृथ्वी पर लौटती हैं. उसके बाद उनकी सभी अलग-अलग रूपों में पूजा की जाती है. मंदिर में जिस देवी का श्रृंगार नोटों से किया उन्हें धनलक्ष्मी कहा जाता है.