भारत सरकार ने सोमवार शाम टिकटॉक, हेलो, लाइकी, यूसी ब्राउजर समेत चीन के 59 ऐप्स को बैन करने का फ़ैसला किया है. माना जा रहा है कि इन ऐप्स पर बैन लगाए जाने से चीन को करारा झटका लग सकता है, क्योंकि इन ऐप्स को इस्तेमाल करने वाले भारतीयों की तादात करोड़ों में है. भारत सरकार के इस फ़ैसले के बाद चीन के हाथ से एक बड़ा मार्केट निकल गया है. 

आख़िर क्यों लगाया गया बैन?

सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय' ने सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम की धारा 69A के तहत इन 59 चीनी मोबाइल ऐप्स पर पाबंदी लगाई है. इस दौरान सरकार ने अपने नोटिस में साफ़ तौर पर कहा है कि ये 59 चीनी ऐप्स भारत की संप्रभुता और अखंडता, भारत की रक्षा, राज्य की सुरक्षा और सार्वजनिक व्यवस्था के लिए ख़तरा हैं. इसी की वजह से इन्हें बैन किया जा रहा है.

Source: indiatoday

इन 4 तरीकों से चीन इन ऐप्स के ज़रिए करता है कमाई 

बताया जा रहा है कि चीन Vanity Apps (ब्यूटी प्लस), Entertainment Apps (टिक-टॉक), Economic Activity Apps (पेमेंट ऐप्स) और चायनीज़ प्रोपोगैंडा फैलाने वाले (UC Browser) ऐप्स से मोटी कमाई करता है. आज हर स्मार्टफ़ोन यूज़र के फ़ोन में आपको ये सभी ऐप मिल जाएंगे. प्रतिदिन के एक्सेस से चीन इन ऐप्स के ज़रिए लाखों डॉलर की कमाई करता है. बैन लगने के बाद इससे चायना की अर्थव्यवस्था पर काफ़ी असर पड़ने वाला है.

चीन इन 5 ऐप से कर रहा था सबसे ज़्यादा कमाई 

1- TikTok  

चीनी कंपनी 'बाइटडांस' के 'TikTok' ऐप को भारत में क़रीब 11.9 करोड़ लोग इस्तेमाल करते हैं. क़रीब 30 फ़ीसदी भारतीय यूज़र्स इसे इस्तेमाल करते हैं, जो दुनिया में सबसे अधिक है. इस ऐप की 10 फ़ीसदी आमदनी भारतीय यूज़र्स के माध्यम से होती है. देश के करोड़ों युवा TikTok से अच्छी ख़ासी कमाई कर रहे हैं. बैन होने से चीन के साथ ही भारत को भी इससे काफ़ी नुक़सान होने वाला है.

Source: indianexpress

2- Helo

भारत में TikTok के बाद इन दिनों Helo ऐप भी काफ़ी पॉपुलर हो रहा है. ये भी चीनी कंपनी 'बाइटडांस' का ही ऐप है. मौजूदा समय में भारत में Helo के के 5 करोड़ से एक्टिव यूजर्स हैं. ये चायनीज़ ऐप भारत के ShareChat ऐप को तगड़ी टक्कर देता है. इसके बैन होने से एक बार फिर शेयरचैट के यूज़र्स बढ़ सकते हैं.

Source: google

3- Likee 

TikTok की तर्ज़ पर बना ये चाइनीज़ एंटरटेनमेंट ऐप भी भारत में काफ़ी लोकप्रिय है. भारत में Likee के कुल 11.5 करोड़ यूज़र्स हैं. ये ऐप टॉप-7 ऐप्स में से है, जिन्हें लोग सबसे ज़्यादा पसंद करते हैं. चीन इस ऐप के ज़रिए भी भारत से करोड़ों डॉलर की सालाना कमाई करता है.

Source: navbharattimes

4- UC Browser 

गूगल क्रोम के बाद ये UC Browser दूसरा सबसे बड़ा सर्च इंजन बनने की ओर अग्रसर है. चीन को छोड़कर बाकि दुनिया में UC Browser के क़रीब 1.1 अरब यूज़र्स हैं. इसमें से क़रीब आधे यूज़र्स भारत में हैं. आपको जानकर हैरानी हो सकती है कि इस समय भारत में स्मार्टफोन यूजर्स की संख्या 50 करोड़ से कुछ अधिक है. इसका मतलब हर भारतीय के मोबाइल में UC Browser है. 

Source: economictimes

5- Xiaomi-MI 

चीन की मोबाइल निर्माता कंपनी Xiaomi पिछले 4 सालों में भारत में नंबर-1 मोबाइल ब्रांड बन चुका है. मोबाइल, टीवी, ट्रिमर, पावरबैंक और ईयरफ़ोन्स के ज़रिए Xiaomi ने आज भारत के एक चौथाई से भी अधिक मार्केट पर कब्ज़ा कर लिया है. इसके साथ ही MI के ख़ुद के कई ऐप भी हैं जो इनके फ़ोन्स में पहले से ही मौजूद रहते हैं. इसके साथ ही Xiaomi यूज़र्स अब Mi Community और Mi Video Call-Xiaomi जैसे ऐप्स का इस्तेमाल नहीं कर पाएंगे.

Source: google

चीन के साथ ही भारत को भी होगा भारी नुकसान 

चीन के लिए भारत सबसे बड़ा मार्केट है. चीन अपने टिक-टॉक, हेलो, लाइकी, वीगो, और यूसी ब्राउजर जैसे प्रमुख ऐप के ज़रिए भारत से सालाना करोड़ों डॉलर का कारोबार करता है. भारत में स्थित इन चीनी कंपनियों में 90 फ़ीसदी से अधिक भारतीय हैं. इन ऐप्स की वजह से लाखों भारतीयों को रोजगार मिला है. टिक-टॉक, हेलो, लाइकी और वीगो पर युवा वीडियो बनाकर पैसे कमा रहे हैं. इन ऐप्स के बंद होने से भारत में लाखों लोग बेरोज़गार हो जायेंगे.