WHO की एक रिपोर्ट के मुताबिक, ध्वनि प्रदूषण की वजह से लोगों में हार्ट अटैक और मानसिक विकारों का ख़तरा बढ़ जाता है. केन्या में हुए एक सर्वे में ये सामने आया है कि ध्वनि प्रदूषण में 10 डेसिबल का बढ़ावा होने पर उसका असर लोगों की प्रोडक्टिविटी पर पड़ता है.

Source: theglittersonline

हम ये सारी बातें आपको इसलिए बता रहे हैं क्योंकि हमारे देश के बड़े शहरों में दिन-प्रतिदिन ध्वनि प्रदूषण की समस्या बढ़ती ही जा रही है. हाल ही में आई केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ है. इसके अनुसार, चेन्नई वो शहर है जहां के लोग सबसे अधिक ध्वनि प्रदूषण से परेशान हैं.

Source: deccanchronicle

इस रिपोर्ट के अनुसार चेन्नई में ध्वनि प्रदूषण का स्तर औसतन 67.8 डेसिबल रहा. इसके बाद हैदराबाद(67.1), कोलकाता(66.6), बेंगलुरु(64.9), मुंबई(64.3) दिल्ली(61.3) जैसे शहरों का नंबर है. इसका मतलब ये है कि देश के इन 6 बड़े महानगरों में रहने वाले लोगों पर ध्वनि प्रदूषण से होने वाली बीमारियों का ख़तरा मंडरा रहा है. यही नहीं इसका असर देश की अर्थव्यवस्था पर भी दिखाई देगा. क्योंकि बीमार लोग यानी कम प्रोडक्टिविटी.

Source: dailyhunt

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि रेज़िडेंसियल इलाके में शोर का स्तर 55 डेसिबल से अधिक और रात में 45 डेसिबल से अधिक नहीं होना चाहिए. कुछ समय पहले बढ़ते ध्वनि प्रदूषण से की समस्या से निपटने के लिए मुंबई की ट्रैफ़िक पुलिस ने अनोखा तरीका निकाला था.

Source: pune365

उन्होंने ट्रैफ़िक सिग्लन के टाइमर को डेसिबल मीटर से जोड़ दिया था. ऐसे सिग्नल पर खड़े लोग अगर बे वजह हॉर्न बजाते और ये 85 डेसिबल से ऊपर पहुंच जाता तो सिग्नल का टाइमर रिसेट हो जाता और लोगों को अधिक देर तक इंतज़ार करना पड़ता. उनका ये तरीका काम भी कर कर गया.

ध्वनि प्रदूषण की समस्या से निपटने के लिए हमें ऐसे ही उपायों की ज़रूरत है.


News के और आर्टिकल पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.