पुलवामा आतंकी हमले के बाद भारत-पाकिस्तान के बीच रिश्तों में तनातनी आ गई है. ये खटास आधिकारिक मेल-मिलाप में भी देखी जा सकती है.

अंतरराष्ट्रीय कोर्ट में कुलभूषण जाधव केस की सुनवाई चल रही है, वहां भारत-पाकिस्तान के अधिकारी आमने-सामने थे. पाकिस्तानी अधिकारी की ओर से हाथ मिलाने के लिए हाथ आगे बढ़ाया गया इसपर भारतीय अधिकारी ने हाथ मिलाने से मना कर, दिया लेकिन भारतीय संस्कृती का भी ख़्याल रखा गया और हाथ मिलाने का जवाब 'नमस्ते' से दिया गया.

भारतीय विदेश मंत्रालय के संयुक्त सचिव दीपक मित्तल और पाकिस्तान की ओर से अटॉर्नी जनरल अनवर मंसूरी आमने सामने थे. वहां साथ मौजूद भारतीय अधिकारी ने भी पाकिस्तानी अटॉर्नी जनरल से हाथ मिलाने से मना कर दिया.

आपको बता दें कि इससे पहले भी दीपक मित्तल ने पाकिस्तानी वकील मोहम्मद फ़ैजल से कुलभूषण जाधव के मामले की सुनवाई के दौरान हाथ मिलाने से मना कर दिया था. बताया जाता था तब ऐसा करने की वजह 'उरी अटैक' था.

सोशल मीडिया पर दीपक मित्तल की इस डिप्लोमेसी की बहुत तारीफ़ की गई.

दीपक मित्तल का 'नमस्ते' बताता है कि विरोध करने के कई तरीके हो सकते हैं.