मिज़ाज से शायर, पेशे से कथित जनता के उद्धारक और ‘गो कोरोना गो’ के महान अविष्कारक केंद्रीय मंत्री रामदास अठावले एक बार फिर ट्विटर पर ट्रेंड हो गए. अठावले ने कहा है कि रेस्तरां या रोड साइड बिक रहे चाइनीज़ खाने को पूरी तरह से बैन कर देना चाहिए.  

Source: financialexpress

दरअसल, लद्दाख सीमा पर भारत-चीन के बीच संघर्ष जारी है. सोमवार रात को हिंसक झड़प में 20 भारतीय जवान शहीद हो गए थे, जिसके बाद भारत में तेज़ी से चीन के सामानों के बहिष्कार की मांग चल रही है. लोगों के दिलों में ग़ुस्से की आग भड़क रही है. अब ऐसे में हमारे क़ाबिल नेता रोटियां सेंकने से कैसे चूक जाएं. लेकिन लगता है, इस बार तवा कुछ ज़्यादा गरम निकला. यही लिए अठावले जी कि रोटी कुछ जली मालूम पड़ रही है.  

अठावले ने कहा 'रेस्तरां या रोड साइड बिक रहे चाइनीज़ खाने को पूरी तरह से बैन कर देना चाहिए. मैं भारत के लोगों से अपील करता हूं कि वह चाइनीज़ सामानों के साथ-साथ चाइनीज़ खाने का भी बहिष्कार करें.'  

बस उनका इतना कहना था और सोशल मीडिया पर ताबड़तोड़ कमंट्स आना शुरू हो गए. लोगों का कहना है कि खाने का इस सिचुएशन से कोई लेना-देना नहीं है. कुछ लोग तो कंफ़्यूज़ भी हो रखे हैं कि भाई ‘गो चाइना गो’ तो ठीक है लेकिन ये गोभी मंच्यूरियन भारतीय है या चाइनीज?   

हम तो यही कहेंगे अठावले जी इन कमंट्स से दिल छोटा मत कीजिएगा. बात आप एकदम सही कहे हैं, बस अंदाज़ वहीं पुराना वाला होता, तो मौज आ जाती. कोई नहीं, अगली बार ढिनचैक पूजा के साथ मिलकर कसर पूरी कर लीजिएगा. बाकी तब तक के लिए ‘गो अठावले गो.’