कुछ चीज़ें, बातें, क़िस्से ऐसे होते हैं कि समझ नहीं आता है कि उसे पढ़ कर क्या कहा जाए? कैसे रिस्पांस किया जाए? सामने वाले की बेवकूफ़ी पर हंसा जाए या रोया जाए?

ऐसा ही एक वाक़या अमेरिका से सामने आया है. अमेरिका में एक कोरोना पॉज़िटिव व्यक्ति ने "कोविड-19 पार्टी" दे डाली और उस में शामिल हुए शख़्स की कोरोना के चलते ही मौत हो गयी.
सैन एंटोनियो में मेथोडिस्ट अस्पताल की मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर जेन एप्पलबी ने इस बात की जानकारी दी.

डॉक्टर ने बताया की उस शख़्स ने मौत से पहले नर्स से कहा था, "मुझे लगता है मैंने ग़लती करती कर दी, मुझे लगा था ये धोखा है, लेकिन ऐसा नहीं है."

"कोविड-19 पार्टी" के पीछे लोगों की ये मंशा थी कि सब लोग आपस में मिलते हैं और देखते हैं कि वायरस असली है या मज़ाक भर है.

डॉक्टर ने बताया की युवा मरीज़ इसको गंभीरता से नहीं लेते. वो कितने ज़्यादा बीमार हैं वो बाहर से नहीं दिखता लेकिन उनकी रिपोर्ट्स से सब सामने आ जाता है मगर बाहर से ना मालूम चलने के कारण युवा अक्सर वायरस को मज़ाक ही समझते हैं.

डॉक्टर ख़तरे को ठीक तरह से समझाने का प्रयास करते हुए कहती हैं, "वायरस भेदभाव नहीं करता. हममें से किसी को भी ये हो सकता है. मैं अपने अनुभव आपके साथ बांट रही हूं ताकि सभी इसकी गंभीरता समझ सकें."

कोरोना ने सबसे बुरी तरह अमेरिका में ही तबाही मचाई है. अमेरिका में कोरोना के कुल केस 34,13,995 पहुंच चुके हैं साथ ही 1,37,782 मौतें कोरोना के चलते हुईं.