देशभर के सभी कॉलेजों में रैगिंग पूरी तरह से बैन है. बावजूद इसके सीनियर छात्रों द्वारा जूनियर्स के साथ रैगिंग के मामले सामने आते ही रहते हैं.  

Source: collegedunia

ऐसा ही एक मामला उत्तर प्रदेश के 'सैफ़ई मेडिकल कॉलेज' से भी सामने आया है. जहां सीनियर छात्रों ने रैगिंग के नाम पर जूनियर छात्रों के सिर मुंडवा दिए.  

Source: patrika

मामला इटावा ज़िले के सैफ़ई स्थित 'सैफ़ई मेडिकल कॉलेज' का बताया जा रहा है. सीनियर छात्रों ने एमबीबीएस प्रथम वर्ष में दाख़िला लेने वाले करीब 150 छात्रों के सिर मुंडवा दिए. ये मामला तब सामने आया जब इस घटना का एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने लगा.   

वीडियो में एमबीबीएस प्रथम वर्ष के सभी छात्र सीनियर्स के आदेश पर अपनी क्लास में सिर झुकाकर जाते दिख रहे हैं. इस दौरान सभी छात्र हॉस्टल जाते वक़्त भी दूर से ही सीनियर्स को झुककर प्रणाम करते हैं. इतना ही नहीं, सीनियर स्टूडेंट्स जूनियर्स पर नज़र भी रखते हैं और जो गड़बड़ी करता है या लाइन से थोड़ा भी इधर-उधर होता है सीनियर गालियों की बौछार करने लगते हैं 

Source: dailyhunt

हालांकि, रैगिंग को लेकर फ़िलहाल किसी भी छात्र ने कुछ भी नहीं कहा है. लेकिन कहा यही जा रहा है कि सीनियर्स छात्रों के कहने पर ही जूनियर्स ने सिर मुंडवाए हैं.  

Source: amarujala

जब इस बारे में कुलपति डॉक्टर राजकुमार से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि कैंपस में रैगिंग की इजाज़त नहीं है. विश्वविद्यालय में रैगिंग के नाम पर मानसिक प्रताड़ना जैसा कोई मामला सामने नहीं आया है यदि किसी छात्र को कोई परेशानी है तो उसे एंटी रैगिंग कमेटी से शिकायत करनी चाहिए. अगर ऐसा मामला है तो एंटी रैगिंग टीम जांच करेगी.