पैंडमिक ने ज़िन्दगी की ऐसी-तैसी कर दी है. ग़ौरतलब है कि हम इंसान किसी के रोके नहीं रुकते. परिस्थितियां कैसी भी हों, इंसान उससे आगे निकल ही आता है. जब तक कोविड- 19 की वैक्सीन नहीं आती, हमें ऐसे ही रहना होगा और हमने इन हालातों से भी दोस्ती कर ली है.

दोस्ती तो कर ली है, पर ज़ाहिर है घर की चारदिवारी में क़ैद रहना किसी को पसंद नहीं आएगा. बोरयित की मार झेल रहे लोगों को अगर ये पता चले कि आप पहाड़ों की मनमोहक वादियों में जाकर आराम से काम कर सकते हैं तो कैसा लगेगा? ज़ाहिर है मन में लड्डू तो फूटेंगे.  

Source: E Uttaranchal

एक रिपोर्ट के अनुसार, उत्तराखंड टूरिज़्म, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए 'Workcation' की सुविधा दे रही है. टूरिज़्म विभाग ने पहाड़ों पर बने, हरियाली की चादर ओढ़े कुछ होम-स्टेस की सूची बनाई है, जहां पर जाकर लोग काम कर सकते हैं.

उत्तराखंड के टूरिज़्म सेक्रेटरी, दिलीप जावलकर ने बताया कि Workcation वेकेशन का नया ट्रेन्ड है. कोविड- 19 पैंडमिक की वजह से घर से काम करने को मजबूर लोगों को भी छुट्टियां मिलनी चाहिए. उत्तराखंड टूरिज़्म लोगों को Workcation का मौका दे रही है. ट्रैवलर्स जिम कॉरबेट, लैंड्सडाउन, मसूरी, कौसानी, देहरादून, नैनीताल, अल्मोड़ा और अन्य जगहों पर होटल, रिज़ॉर्ट और होम स्टे में रुक सकते हैं.  

Source: Pinterest

उत्तराखंड के कई होटल, रिज़ॉर्ट, होम स्टे पॉकेट-फ़्रेंडली पैकेज दे रहे हैं और आप अपनी इच्छानुसर पैकेज ले सकते हैं.

तो देर किस बात की है, बिना काम से ब्रेक लिए पहाड़ों की सैर कर आओ.