दिल्ली विधानसभा चुनावों को लेकर नेताओं की बयानबाज़ी शुरू हो गई हैं. ख़ासकर बीजेपी नेताओं ने तो सारी हदें ही पार कर दी हैं.

केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर के विवादित बयान के बाद अब वेस्ट दिल्ली से बीजेपी सांसद प्रवेश वर्मा ने भी शाहीन बाग में हो रहे प्रदर्शन को लेकर विवादित बयान दिया है.

Source: aajtak

बीते सोमवार को वेस्ट दिल्ली के विकासपुरी में एक रैली के दौरान प्रवेश वर्मा ने कहा, दिल्ली में आज कश्मीर जैसे हालात हो गए हैं. दिल्ली वाले सावधान हो जाएं शाहीन बाग़ के प्रदर्शनकारी आपके घरों में घुसकर बहन-बेटियों के साथ रेप जैसी घटना को भी अंजाम दे सकते हैं.

इस दौरान प्रवेश वर्मा ने शाहीन बाग में जारी प्रदर्शन की तुलना कश्मीर में कश्मीरी पंडितों के साथ हुए अत्याचार से कर डाली. उन्होंने कहा जो आग पहले कश्मीर में लगी थी, वो अब दिल्ली तक पहुंच गई है.

Source: en

ANI से बातचीत में बीजेपी सांसद प्रवेश वर्मा का कहना है कि, अरविंद केजरीवाल व मनीष सिसोदिया कहते हैं कि वो शाहीन बाग की जनता के साथ हैं. दिल्ली की जनता जानती है कि जो आग आज से कुछ साल पहले कश्मीर में लगी थी, कश्मीरी पंडितों की बहन-बेटियों के साथ रेप हुए थे. वो आग पहले यूपी में फिर केरल में लगी और अब दिल्ली में लग रही है.

Source: news18
शाहीन बाग में लाखों लोग इकट्ठा हो गए हैं, ये आग कभी भी आपके घर में पहुंच सकती है. ये लोग आपके घरों में घुसेंगे, बहन बेटियों को उठाएंगे, रेप करेंगे, और उनको मारेंगे. यही माहौल रहा तो कल को मोदी-शाह भी आपको बचाने नहीं आ पाएंगे. आज दिल्ली के लोग जाग जाएंगे, तो अच्छा होगा. जबतक मोदी देश के पीएम हैं तब तक लोग सुरक्षित हैं, अगर कोई और पीएम बना तो देश की जनता ख़ुद को सुरक्षित महसूस नहीं करेगी'.

प्रवेश वर्मा ने इससे पहले भी दिल्ली में एक रैली के दौरान कहा था कि, अगर 11 फ़रवरी को बीजेपी की सरकार बनती है तो 1 घंटे के अंदर शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों को खाली करा देंगे.

विवादित बयान दे रहे हैं बीजेपी के नेता

शाहीन बाग को लेकर इससे पहले भी बीजेपी की ओर से कई भड़काऊ बयान आ चुके हैं. मॉडल टॉउन से बीजेपी उम्मीदवार कपिल मिश्रा ने एक ट्वीट में शाहीन बाग को 'मिनी पाकिस्तान' बताया था, तो वहीं केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने 'देश के गद्दारों को, गोली मारो' जैसा भड़काऊ बयान दिया.

कपिल मिश्रा व अनुराग ठाकुर के भड़काऊ बयानों पर विपक्ष की आपत्ति के बाद चुनाव आयोग ने संज्ञान लिया है.