मंगलवार, 4 अगस्त को लेबनान की राजधानी, बेरुत में लोगों की शाम आम दिनों की तरह ही बीत रही थी कि तभी कानों को सुन्न कर देने वाले एक विस्फोट ने पूरे शहर को हिला दिया.

विस्फोट इतना भयंकर था कि उसकी आवाजें बेरुत के बाहर तक सुनी गई. कई किलोमीटर तक सिर्फ़ तबाही का मंजर बिखरा पड़ा था.
इस हादसे में अब तक 149 से ज़्यादा लोगों की मौत हो चुकी है और 5000 से ज़्यादा लोगों के घायल होने की ख़बर है.

सरकार का कहना है कि बेरुत बंदरगाह के एक वेयरहाउस में रखे गए 2750 टन अमोनियम नाइट्रेट के ज़खीरे में आग लगने से ये धमाका हुआ है. क़रीब 6 साल पहले बेरूत के तट पर एक जहाज़ से तक़रीबन 3 हज़ार टन अमोनियम नाइट्रेट ज़ब्त किया गया था.

Source: Twitter

क्या होता है अमोनियम नाइट्रेट?

Source: DW

अपने शुद्ध रूप में अमोनियम नाइट्रेट (NH4NO3) क्रिस्टल जैसा सफ़ेद केमिकल है जो पानी में घुलनशील होता है. ये एक सिंथेटिक केमिकल है जिसे नाइट्रिक एसिड और अमोनिया को रियेक्ट करा कर बनाया जाता है.

इसका सबसे ज़्यादा उपयोग खेती के लिए उर्वरक बनाने, निर्माण कार्य और खनन के लिए विस्फोटक बनाने में किया जाता है.

Source: Sky News

कितना ख़तरनाक होता है अमोनियम नाइट्रेट?

अमोनियम नाइट्रेट अपने आप में विस्फोटक नहीं होता है. लेकिन अगर ये काफ़ी वक़्त तक यूं ही पड़ा रहे तो ख़राब होना शुरू हो जाता है. लंबे वक़्त के लिए स्टोर करने पर ये वातावरण की नमी सोखने लगता है और आख़िर में ये एक बड़ी सी चट्टान में बदल जाता है.

इसको लंबे वक़्त तक स्टोर करना काफ़ी ख़तरनाक हो जाता है क्योंकि ये आग के संपर्क में आते ही भयंकर विस्फोट के साथ जल उठता है.

Source: Merkur

जब अमोनियम नाइट्रेट में धमाका होता है तो इससे नाइट्रोजन ऑक्साइड और अमोनिया जैसी ज़हरीली गैसें निकलती हैं. नाइट्रोजनडायक्साइड की वजह से नारंगी रंग का धुआं पैदा होता है. ये सब गैसे इंसानों को बहुत नुकसान पहुंचा सकती हैं.

Source: BBC

बेरुत हादसे से पहले भी अमोनियम नाइट्रेट के कारण कई भयानक दुर्घटनाएं हो चुकी हैं.

Source: Aljazeera