Suspend And Dismiss Difference: हाल ही में कार्य के प्रति लापरवाही और अनुशासनहीनता बरतने पर योगी सरकार ने 2008 बैच की आईपीएस अधिकारी अलंकृता सिंह को शासन से निलंबित कर दिया था. एसपी अलंकृता सिंह महिला व बाल सुरक्षा संगठन (1090) के पद पर तैनात थीं. इस दौरान बताया गया कि वो 20 अक्टूबर से अपने दफ़्तर से बिना अधिकृत सूचना के विदेश (लंदन) दौरे पर हैं. बिना किसी प्रकार का अवकाश स्वीकृत कराये कार्यस्थल से अनुपस्थित रहने और बिना शासकीय अनुमति के विदेश यात्रा पर जाने का दोषी पाये जाने पर अलंकृता सिंह को 'निलंबित' कर दिया गया है. गृह विभाग ने उनके निलंबन का आदेश जारी कर दिया है. निलंबन अवधि के दौरान वो डीजीपी मुख्यालय से संबद्ध रहेंगी.

ये भी पढ़ें: जानिए IAS और IPS समेत तमाम बड़े अधिकारियों की कुर्सियों पर सफ़ेद तौलिया क्यों रखा होता है

IPS Alankrita Singh Suspended
Source: jagran

आप में से अधिकतर लोग अक्सर टीवी और न्यूज़ पेपरों में 'निलंबित और बर्ख़ास्त' शब्द सुनते और पढ़ते होंगे. क्या आप इनका असल मतलब जानते हैं? जवाब होगा शायद नहीं! ये शुद्ध हिंदी के दो ऐसे शब्द हैं जिनके बीच के अंतर को लोग अक्सर समझ नहीं पाते हैं. अगर आप अंग्रेज़ी में इनका मतलब जानते हैं तो आपको थोड़ा बहुत इसकी जानकारी हो सकती है. लेकिन हिंदी में लोग इन्हें लेकर हमेशा कंफ्यूज़न में रहते हैं. आपको इसके बारे में ज़्यादा चिंता करने की ज़रूरत नहीं है क्योंकि आज हम आपको हिंदी के इन दोनों ही शब्दों का असल मतलब बताने जा रहे हैं.

Suspend And Dismiss Difference

Suspend and Dismiss Difference
Source: facebook

दरअसल, सरकारी नौकरी में दो तरह के मुख्य दंड होते हैं. पहला- लघु दंड या माइनर पेनाल्टी, जबकि दूसरा- दीर्घ दंड या मेजर पेनाल्टी. निलंबन और बर्ख़ास्त (Suspend And Dismiss Difference) इन्हीं दोनों दंडों (Punishment) को परिभाषित करते हैं.

क्या होता है निलंबित करना?

निलंबन या निलंबित को अंग्रेज़ी में 'Suspend' कहा जाता है. निलंबित करने का मतलब किसी कर्मचारी को सस्पेंड करना होता है. अगर किसी कर्मचारी को उसके विभाग द्वारा निलंबित (Suspend) किया जाता है तो इसका मतलब होता है कर्मचारी एक निश्चित समय तक ऑफ़िस में काम नहीं करेगा. विभाग द्वारा तय समय सीमा ख़त्म होने के बाद कर्मचारी पहले की तरह अपनी नौकरी पर लौट जायेगा. आप किसी भी कर्मचारी को लंबे वक़्त के लिए सस्पेंड नहीं कर सकते, लेकिन इस दौरान उस पर लगे आरोपों की जांच होती है.

Meaning of Suspend
Source: patrika

क्या निलंबन के दौरान सैलरी मिलती है?

अगर किसी कर्मचारी को निलंबित (Suspend) किया जाता है तो इस दौरान उसे सैलरी का आधा हिस्सा और महंगाई भत्ता मिलता है. हालांकि,नौकरी पर वापस लौटने के बाद कर्मचारी को उसकी पूरी सैलरी मिल जाती है और वो पहले की तरह अपनी पोस्ट पर नौकरी कर सकता है. ये एक तरह का ऑफ़िशियल दंड है जो कर्मचारी को उसके बड़े अधिकारी द्वारा दिया जाता है.

Suspend And Dismiss Difference

निलंबित, Suspend
Source: oneindia

अगर किसी कर्मचारी ने ऑफ़िस में रहते हुये कोई बड़ा अपराध किया है, तो इस पर लंबी जांच चलती है. इसके बाद ही कर्मचारी के भविष्य पर कोई फ़ैसला लिया जाता है. इस दौरान अगर कर्मचारी दोषी पाया जाता है तो बर्ख़ास्त कर दिया जाता है. अंग्रेजी में बर्ख़ास्त को Terminate' या 'Dismiss' भी कहा जाता है.

Terminate' or 'Dismiss
Source: indianexpress

क्या होता है बर्ख़ास्त करना? 

ये निलंबन का अगला चरण है. अगर कोई कर्मचारी जांच में दोषी पाया जाता है तो उसे बर्ख़ास्त (Terminate) कर दिया जाता है. बर्ख़ास्त (Dismiss) करने का मतलब किसी कर्मचारी को हमेशा के लिए उसकी नौकरी से निकाल देना होता है. बर्ख़ास्त का अधिकार विभाग के सर्वोच्च अधिकारी के पास होता है. अगर किसी सरकारी कर्मचारी को उसका विभाग नौकरी से बर्ख़ास्त करता है तो वो शख़्स भविष्य में सरकारी नौकरी के लिए अप्लाई भी नहीं कर सकता है. इसके अलावा वो चुनाव भी नहीं लड़ सकता है. 

ये भी पढ़ें: जानिए IAS, IPS, IRS ऑफ़िसर्स में से सबसे ज़्यादा सैलरी किसकी होती है, मिलते हैं कौन-कौन से भत्ते?

क्या बर्ख़ास्त होने पर सैलरी मिलती है?

इसका जवाब है नहीं! अगर किसी सरकारी कर्मचारी को उसका विभाग नौकरी से बर्ख़ास्त करता है तो इस दौरान उसे सैलरी या कोई भी भत्ता नहीं मिलता है. इस स्थिति में PF भी नहीं मिलता है, कर्मचारी को केवल ग्रेजुएटी ही मिलती है.

Suspend And Dismiss Difference

Terminate' or 'Dismiss
Source: ibtimes

क्यों अब तो नहीं है न 'निलंबित और बर्ख़ास्त' को लेकर कोई कंफ्यूज़न?