कुछ दिनों पहले राजस्थान के अलवर जिले में महिला के साथ तीन घंटे तक किये गए गैंगरेप ने पूरे देश को हिला दिया था. अब ऐसा ही एक दर्दनाक मामला उत्तर प्रदेश के हापुड़ से सामने आया है, जिसमें उत्पीड़न, अपराध और पुलिस की संवेदनहीनता ने सारी हदें पार कर दी हैं. इस घटना में 28-29 साल की एक महिला की ज़िन्दगी उसके घर वालों ने बर्बाद कर दी.

Source: indiatvnews

पूरा मामला ये है कि महिला के पति की मौत के बाद उसकी ज़िन्दगी बद से बदतर हो गई थी क्योंकि उसके पिता और चाची ने मात्र 10 हज़ार रुपयों के लिए उसे बेच दिया. जहां उसको बेचा गया वहीं से रक्षकों और दोस्तों ने उसका बलात्कार किया. उसका दर्द अभी यहीं नहीं थमा था, बलात्कार से बचने के लिए जब मदद की आशा के साथ वो पुलिस के पास गई तो वहां से भी उसे भगा दिया गया. और जब उससे ये सब बर्दाश्त नहीं हुआ तो परेशान महिला ने ख़ुद को आग लगा कर ख़त्म करने की कोशिश की. इस आग से उसका शरीर 80% तक जल गया. और अब वो दिल्ली के एक हॉस्पिटल में ज़िन्दगी और मौत की लड़ाई लड़ रही है.

Source: ndtvimg

TOI में छपी ख़बर के अनुसार, हापुड़ के एसपी यशवीर सिंह ने बताया कि महिला के घरवालों ने उसको जिस शख़्स को बेचा था वो कर्ज़े में डूबा हुआ था और अपने क़र्ज़ को चुकाने के लिए वो महिला को साहूकारों के पास घरेलू काम करने के लिए भेज देता था. जहां बार-बार उसका यौन शोषण किया गया. इसके साथ ही उन्होंने बताया कि इस मामले में 14 लोगों के ख़िलाफ़ FIR दर्ज की गई है.

इस मामले की जानकारी देने के लिए दिल्ली महिला आयोग (DCW) की चेयरपर्सन, स्वाति मालीवाल ने मुख्यमंत्री, योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर महिला के लिए न्याय की मांग की है. उन्होंने अपने पत्र में लिखा,

ये पत्र DCW की ओर से हापुड़ की सामूहिक बलात्कार की एक पीड़िता से संबंधित है. पीड़िता को हापुड़ में यूपी पुलिस के हाथों असहनीय उत्पीड़न का सामना करना पड़ा, बार-बार शिकायत करने पर भी पुलिस ने FIR दर्ज करने से इंकार कर दिया.

इसके साथ ही इस पत्र में लिखा गया है कि यूपी पुलिस की संवेदनहीनता और ढीले रवैये से परेशान होकर बीती 28 अप्रैल को पीड़िता ने ख़ुद को आग लगा ली. दिल्ली के एक प्राइवेट हॉस्पिटल में उसका इलाज चल रहा है. महिला के परिवार ने पति की मौत के बाद उसे 10 हज़ार रुपयों के लिए बेच दिया था. और उसके बाद उसका कई बार बलात्कार और उत्पीड़न हुआ. महिला का आरोप है कि उसने हापुड़ के एसपी सहित कई पुलिस अधिकारियों के सामने मदद की गुहार लगाई, मगर किसी ने भी उसकी शिकायत दर्ज नहीं की और न ही आरोपियों के ख़िलाफ़ कोई कार्रवाई की गई.

वहीं हापुड़ स्थित बाबूगढ़ पुलिस स्टेशन के SHO, राजेश कुमार भारती ने बताया कि हमें 14 लोगों के ख़िलाफ़ शिकायत मिली है और मामले में जांच बिठाई गई है.