भारतीय 'गोरे', 'साफ़', 'उजले' रंग के कितने ज़्यादा कायल हैं, ये हम सभी जानते हैं. आज के दौर में भी ज़्यादातर घरों में बहुएं शिक्षा, नौकरी के आधार पर नहीं, रंग के आधार पर पसंद की जाती है.

कई लड़कियां, तथाकथित 'शुभचिंतकों' के ताने सुनते-सुनते ही बड़ी होती हैं. अलग-अलग तरह की किताबों से सरोकार हो न हो, अलग-अलग तरह के उबटनों से उनकी दोस्ती करवा दी जाती है. लोग ये नहीं समझते कि जो जन्म से जैसा है, उसे घिसकर बदलना नामुमकिन है

Source: Mai Life

काले से गोरे होने की उम्मीदों को हवा देते हैं फ़ेयरनेस क्रीम्स के विज्ञापन, जो '6 हफ़्तों में गोरा बनाने की गैरंटी देते हैं.'


कई बार रंग को लेकर लड़कियां हिंसा का भी शिकार हुई हैं.

हमारे यहां लड़कियों को ही नहीं, लड़कों को भी उनके सांवलेपन के लिए बातें सुननी पड़ती हैं. 'शक़्ल अच्छी नहीं है, सरकारी नौकरी ढूंढ ,वरना कोई शादी नहीं करेगा' टाइप बातें.


महिलाओं के साथ उनके रंग को लेकर हिंसा की कई घटनाएं दर्ज हैं पर अब पुरुषों के साथ भी हिंसात्मक घटनाएं घट रही हैं.

TOI की एक रिपोर्ट के मुताबिक, 22 वर्षीय एक महिला ने अपने पति पर पेट्रोल छिड़क कर आग लगा दी क्योंकि पति का काला रंग उसे पसंद नहीं था.

Source: India Today

सोमवार को सुबह, प्रेमश्री ने अपने पति सत्यवीर सिंह की हत्या कर दी. उनकी शादी को 2 साल हुए थे और उनकी 5 महीने की एक बच्ची है.


पति को जलाने के क्रम में प्रेमश्री का भी पैर जल गया.

सत्यवीर के भाई हरवीर के शब्दों में,

मेरी भाभी को भैया का रंग पसंद नहीं था. वो हमेशा भैया के रंग पर टिप्पणी करती पर हमें नहीं पता था कि वो इतना बड़ा कदम उठा लेगी.

दुनिया कहां से कहां पहुंच रही है और हमारे समाज में आज भी लोग रंग से आगे नहींं बढ़ पा रहे हैं.