इंसान दिन-रात कड़ी मेहनत करके लोग दो चार पैसा जोड़कर उसे बैंक में जमा करता है ताकि ज़रूरत के वक़्त वो पैसा काम आ सके. लेकिन अब ग्राहकों को अपने इसी पैसे को निकालने के लिए टैक्स चुकाना पड़ सकता है.

Source: indiatimes

पिछले कुछ सालों की बात करें, तो सरकार लगातार लोगों को कम से कम नकद लेन-देन की सलाह दे रही है. सरकार ने नोटबंदी के बाद डिजिटल लेन-देन को बढ़ावा देने की कई कोशिशें भी की. बावजूद इसके लोग अब भी नकद लेन-देन को ही प्राथमिकता दे रहे हैं.

Source: livemint

टाइम्स ऑफ़ इंडिया के मुताबिक़, सरकार जल्द ही 1 साल में 10 लाख रुपए से ज़्यादा की निकासी करने वाले लोगों पर टैक्स लगाने पर विचार कर रही है. ताकि कालेधन की जमाख़ोरी पर अंकुश लगाया जा सके.

मतलब ये कि अब ग्राहकों को अपने ही पैसे निकालने पर सरकार को टैक्स चुकाना पड़ेगा. ये कहां का न्याय है भाई?

Source: thelallantop

रिपोर्ट के मुताबिक़, सरकार इसके ज़रिये कालेधन के जमाख़ोरों की पहचान आसानी से कर सकती है. इसके लिए सरकार ग्राहकों के आधार वेरिफ़िकेशन को अनिवार्य करने के प्रस्ताव पर भी विचार कर रही है. ताकि नगद लेन-देन की सही-सही जानकारी उपलब्ध हो सके. गड़बड़ी होने पर टैक्स रिटर्न के समय इसका आसानी से मिलान किया जा सकेगा.

Source: indiatimes

वर्तमान में बैंक से 50 हज़ार रुपए से ज़्यादा की रकम जमा करने या निकालने पर पैन कार्ड देना ज़रूरी होता है. अगर सामान्य ग्राहक बैंक से 5 लाख रुपए की निकासी करता है, तो उसे आधार की ज़रूरत नहीं पड़ती लेकिन अब 10 लाख रुपए से ज़्यादा की निकासी पर आधार नंबर को अनिवार्य किया जा सकता है.

Source: livemint

पिछले कुछ सालों में मनरेगा के लाभार्थियों के अकाउंट में भारी मात्रा में कालाधन जमा करने की खबरें भी आई थीं. इस लिए सिर्फ़ मनरेगा के लाभार्थियों को ही नकद निकासी के लिए आधार प्रमाणीकरण की ज़रूरत पड़ती है.

आगामी 5 जुलाई को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण मोदी सरकार का पहला आम बजट को पेश करेंगी. बजट में इस नियम का ऐलान भी किया जा सकता है.

Source: livemint

अब ये मानकर चलें कि मोदी सरकार ने कालेधन के जमाख़ोरों पर कड़ी निगरानी शुरू कर दी है.