एक महिला ने दिल्ली के लोक नायक अस्पताल पर आरोप लगया है कि वो 'अस्पताल के बाहर पिता को लेकर खड़ी रही पर उसके पिता को भर्ती नहीं किया गया है.'


महिला ने ट्विटर पर लिखा
'मेरे पिता को तेज़ बुखार है. हमें उन्हें अस्पताल में भर्ती करना है. मैं एलएनजेपी दिल्ली के बाहर खड़ी हूं और वे उन्हें भर्ती नहीं कर रहे. उन्हें कोरोना, तेज़ बुखार और सांस लेने में दिक्कत हो रही है. वे बिना मदद के नहीं बचेंगे. मदद करिए.' 

कुछ देर बाद महिला ने ट्वीट करके बताया कि उसके पिता की मृत्यु हो गई है. 

लोक नायक अस्पताल (एलएनजेपी) ने इस मामले पर प्रेस रिलीज़ जारी करते हुए सफ़ाई दी. अस्पताल का कहना है कि अस्पताल के ऑटो-जेनरेटेड एलेक्रटॉनिक कैज़ुअलिटी रिकॉर्ड के अनुसार मरीज़ को सुबह के 7.37 बजे 'मृत' ही लाया गया था. ड्यूटी पर तैनात, अस्पताल स्टाफ़ ने भी इस बात की पुष्टि की है कि मरीज़ को सुबह 7:10 बजे से 7:30 बजे के बीच लाया गया. अस्पताल का कहना है कि डॉक्टर्स ने मरीज़ को लाने के बाद उसकी जांच की थी. 

महिला ने एक और ट्वीट करके कहा

'मेरे पिता कि कोविड से सुबह मौत हो गई हम नहीं चाहते कि परिवार के बाक़ी सदस्यों के टेस्ट आज ही हो, लैब टेस्ट नहीं कर रहे हैं. सभी ख़तरे में हैं. हम सुबह से कोशिश कर रहे हैं. मेरी मां, भाई, उसकी पत्नी, दो बच्चे. मदद करिए.'

महिला के परिवार की जांच हुई या नहीं इस बारे में कोई ख़बर नहीं मिली है.