भागती-दौड़ती दिल्ली में लोगों को गाड़ी पार्क करने के लिये काफ़ी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है, क्योंकि इस शहर में गाड़ी पार्क करने के लिये सुरक्षित जगह ढूंढना काफ़ी मुश्किल काम है. इसलिये ज़्यादातर लोग गाड़ी पार्क करने के लिये मैट्रो या फिर एयरपोर्ट की पार्किंग चुनते हैं, लेकिन दिल्ली एयरपोर्ट का ताज़ा मामला जानने के बाद शायद अब लोग यहा गाड़ी पार्क करने से डरेंगे.

दरअसल, 24 फरवरी को रेनू महेता नामक महिला ने फ़ेसबुक पर एक पोस्ट शेयर करते हुए लिखा कि उन्होंने 'पार्क एन फ़्लाई' सुविधा के तहत टर्मिनल 3 के पार्किंग ज़ोन में कार पार्क की हुई थी, पर जब वो वापस लौटी, तो उनकी कार के टायर गायब थे.

वहीं सीसीटीवी वीडियो में एक Uber Driver को कार के टायर चुराते हुए देखा गया और इसके बावजूद पार्किंग की सुरक्षा का ज़िम्मा लेने वाले लोगों ने कोई कड़ा कदम नहीं उठाया. यही नहीं, इस मामले में जब रेनू महेता ने सुरक्षा को लेकर सवाल खड़े किये, तो जीएमआर के एक कर्मचारी ने असंवेदनशील टिप्पणी करते हुए कहा, 'तो क्या, ये सिर्फ़ सुरक्षा का उल्लंघन था, पुलवामा में भी ऐसा ही हुआ'.

इसके साथ ही रेनू मेहता ने ये भी सवाल किया कि आख़िरकार जिस पार्किंग की वजह से उन्हें 30 हज़ार रुपये का नुकसान हुआ, उसके लिये ज़िम्मेदार कौन है?

सोशल मीडिया पर रेनू मेहता के पोस्ट के बाद एयरपोर्ट पार्किंग की इस लापरवाही के प्रति लोग भी काफ़ी गुस्से में दिखाई दिये, जिसके बाद Delhi Airport Parking Services ने माफ़ी मांगते हुए पुलिस जांच में पूरे सहयोग का आश्वासन दिया है.