अमित शाह की रैली में सीएए के ख़िलाफ़ नारे लगाने का एक युवा ने दुस्साहस किया. बंदे को 'ऑन द स्पॉट' सज़ा देते हुए समर्थकों ने पीट दिया.

दिल्ली के बाबरपुर में बीते रविवार को शाह की रैली में ये घटना घटी. रिपोर्ट्स के अनुसार, रैली में ही लोगों के एक समूह ने सीएए के ख़िलाफ़ नारे लगाने शुरू किए. नारों से लोग भड़क गये और समूह के एक युवा पर हाथ छोड़ दिया.


धुंधले वीडियो में कुछ लोग युवा को कुर्सियों से पीटते दिख रहे हैं.

शाह ने भाषण के दौरान ही सुरक्षाकर्मियों को लड़के को सकुशल निकालने के निर्देष दिए और लोगों को शांत होने को कहा.

Indian Express की रिपोर्ट के अनुसार, 20 वर्षीय हरजीत सिंह ने शाल की रैली में 'सीएए वापस लो' के नारे लगाए. हरजीत को चेहरे, पीठ और पांव पर चोटें आई हैं.


हरजीत का कहना है कि दिल्ली पुलिस ने उसे मानसिक तौर पर अस्वस्थ होने की चिट्ठी लिखने पर मजबूर कर रही है. हरजीत ने ये भी बताया कि बिना किसी अपराध के उसे लॉक-अप में रखा गया.

मुझे लॉक अप में रखा गया और बताया भी नहीं गया कि मुझ पर कौन से चार्ज लगाये गये हैं. पुलिसवालों ने मुझे एक चिट्ठी लिखने को कहा जिसमें मुझसे लिखवाया गया कि मैं मानसिक तौर पर अस्वस्थ हूं और मुझे नहीं पता था कि मैं क्या कर रहा हूं. अगर मैं ख़त नहीं लिखता तो वो मुझे नहीं छोड़ते.

- हरजीत सिंह

डीसीपी (नॉर्थ-ईस्ट) वेद प्रकाश सूर्य ने हरजीत के सभी आरोपों को ग़लत बताया है.

मैं एक विरोध में भाग लेने के लिए सीलमपुर जा रहा था, रास्ते मे देखा कि बाबरपुर में काफ़ी पुलिस है. जब मैं पुलिसवालों से पूछा तो उन्होंने बताया कि शाह की रैली होने वाली है और मैंने सोचा की विरोध करने का इससे अच्छा मौक़ा नहीं मिल सकता. हम डरते नहीं, हमें अपनी आवाज़ रखने का हक़ है.

- हरजीत सिंह

हरजीत दिल्ली विश्वविद्यालय का छात्र है. हरजीत की बहन ने Indian Express को हरजीत की Indian लिखी हुई फटी टी-शर्ट भी दिखाई.