बीते शुक्रवार को नागरिकता संशोधन क़ानून और एनआरसी पर हो रहे विरोध प्रदर्शन ने देश के अलग-अलग हिस्सों में हिंसात्मक रूप ले लिया. लोग पब्लिक प्रॉपर्टी को नुकसान पहुंचाने लगे, पुलिस ने लाठियों के साथ 'गोलियां' बरसाईं. सैंकड़ों गिरफ़्तार हुई, कई लोग मार गये.

Source: Times of India
Source: Free Press Journal

रिपोर्ट्स के अनुसार जो लोग मारे गये उसमें एक 8 साल का बच्चा भी था. उत्तर प्रदेश के बिजनौर ज़िले से लगभग 131 लोग हिरासत में लिए गए. इस ज़िले से भी 2 लोगों, 21 वर्षीय अनस और 20 वर्षीय मोहम्मद सुलेमान की मौत हुई.


The Print से बातचीत करते हुए, बिजनौर के एसपी, संजीव त्यागी ने बताया कि अरेस्ट किए गए 131 में से 70 लोग नहटौर से हैं.

Source: New Update Online

सुलेमान के परिवार ने पुलिसवालों को 'आतंकवादी' कहा. उसकी बड़ी बहन, शीबा ने कहा,

'वो पुलिसवाले नहीं थे. आतंकवादी थे. ज़ालिम हैं वो.'

सुलेमान की मां, अक़बरी ख़ातून ने बताया कि उनका बेटा UPSC पास करना चाहता था.

Source: National Herald
वो दिन रात UPSC की तैयारी करता रहता था. उन्होंने मेरे मेहनती बेटे को मार डाला.

- सुलेमान की मां

वहीं अनस के घर में ख़ुशी का मौक़ा मातम में बदल गया. जिस दिन अनस की मौत हुई उसी दिन उसका बेटा 7 महीने का हुआ था.


अनस के पिता, अरशद हुसैन ने The Print को बताया,
'वो सिर्फ़ दूध लेने बाहर निकला था. विरोध से उसका कुछ लेना-देना नहीं था.'

Source: Scroll

दोनों परिवारों ने बताया कि पुलिस ने उन्हें उनके बेटों को नेहटौर में दफ़नाने की इजाज़त नहीं दी. दोनों ही मृतकों को शहर से 20 किलोमीटर दूर दफ़नाया गया.


एसपी त्यागी ने बताया कि किसी भी परिवार ने मामला दर्ज नहीं करवाया है.