पाकिस्तान की एक अदालत ने 7 साल की बच्ची के रेप और हत्या के दोषी को फ़ासी की सज़ा सुनाई है. इसी साल जनवरी में हुई इस घटना के बाद पाकिस्तान में जमकर विरोध प्रदर्शन हुए थे. तब बच्ची के पिता अमीन अंसारी ने एक याचिका दायर कर कोर्ट से कहा था, ‘मेरी बेटी के क़ातिल को ऐसी सज़ा दी जाए, जो मिसाल बने और भविष्य में ऐसी घटनाओं को रोके.’

The Financial Express

इस घटना के बाद पाकिस्तान में हुए हिंसक प्रदर्शन में 2 लोगों की मौत भी हो गई थी. उस वक्त लोगों का आक्रोश सड़कों पर साफ़ देखा जा सकता था. आरोपी का नाम इमरान अली है, जिसे पाकिस्तान की अदालत ने 17 अक्टूबर को फ़ांसी देने का फ़रमान जारी किया है.

Arab News

ये घटना लाहौर के एक छोटे से शहर कसूर में हुई थी. कूड़ेदान में एक 7 साल की बच्ची की लाश मिली थी. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बच्ची से रेप की पुष्टी हुई थी. उसकी पहचान जैनब अंसारी के रूप में की गई. जैनब वारदात के कुछ दिनों पहले ही गुम हो गई थी.

परिजनों के मुताबिक, जैनब 5 जनवरी को अपने घर से धार्मिक शिक्षा लेने मदरसे गई थी. उसके बाद से ही वो लापता हो गई. इसके करीब दो हफ्तों बाद पुलिस ने सीसीटीवी की मदद से इमरान अली को पहचान कर गिरफ़्तार किया था.

आरोपी एक सीरियल किलर है. उसने पाकिस्तान में कई बच्चियों का रेप कर उनकी हत्या की थी. अदालत ने उसे ऐसे ही 5 मामलों में दोषी करार दिया है. उच्च न्यायालय के जज सरदार शमीम अहमद और शाहबाज़ रिज़वी की पीठ ने ये फ़ैसला दिया है.

इमरान अली ने पाकिस्तान के राष्ट्रपति आरिफ़ अल्वी के पास दया याचिका भेजी थी, जिसे वो 10 अक्टूबर को ख़ारिज कर चुके हैं. अब आने वाली 17 तारीख को अली को लाहौर जेल में फांसी पर लटकाया जाएगा. गौरतलब है कि पाकिस्तान की आवाम ने आरोपी को सार्वजनिक फांसी देने की मांग की थी.