दुनिया के पहले अन्तरिक्ष यात्री रूस के यूरी गागरिन (Yuri Gagarin) थे, जिन्होंने 12 अप्रैल, सन 1961 को ‘Vostok- 1’ नामक रॉकेट में सवार होकर उड़ान भरी थी. इसके लगभग 1 महीने बाद 5 मई 1961 को अमेरिकी एस्ट्रोनॉट एलन शेपर्ड (Alan Shepard) अन्तरिक्ष यान ‘Freedom-7’ में सवार होकर अन्तरिक्ष में पहुंचे थे. इस दौरान वो क़रीब 15 मिनट तक अन्तरिक्ष में रहे थे. एलन 1971 में चांद पर भी गए थे. इसके बाद 12 अक्टूबर 1964 को पहली बार एक साथ 3 एस्ट्रोनॉट्स अंतरिक्ष में पहुंचे थे.

ये भी पढ़ें- अंतरिक्ष की दुनिया को क़रीब से देखना चाहते हैं, तो ‘हबल टेलीस्कोप’ ने भेजी हैं 15 बेहतरीन तस्वीरें

goodreads

अंतरिक्ष हमेशा से ही इंसानों के लिए रहस्यों का खजाना रहा है. वैज्ञानिक जितनी बार उसकी परत खोलते हैं, इसका रहस्य और भी गहराता चला जाता है. आश्चर्य से भरे इस अंतरिक्ष से जुड़ी ऐसी बहुत सारी बातें हैं, जो बहुत कम ही लोगों को पता होंगी. आज हम आपको कुछ ऐसी ख़ास बातें बताने जा रहे हैं, जिन्हें जानकर आप भी आश्चर्य में पड़ जाएंगे.

forbes

चलिए अंतरिक्ष से जुड़े कुछ इंटरेस्टिंग फ़ैक्ट्स के बारे में जान लेते हैं, जिनके बारे में आप शायद कम ही जानते होंगे-

1- मंगल ग्रह पर 1 दिन 24 घंटे 39 मिनट और 35 सेकंड होता है. 

aajtak

2- यम (प्लूटो) पर 1 दिन, पृथ्वी के 6 दिन और 9 घंटे के बराबर होता है.

forbes

3- सौरमंडल में बुध व शुक्र दो ऐसे ग्रह हैं जिनका कोई भी उपग्रह नहीं है.

anokhefacts

4- शुक्र पर सल्फ्यूरिक एसिड की वर्षा होती है और धातु की बर्फ़बारी होती है.

theindianwire

5- यदि कोई तारा ‘ब्लैक होल’ के काफ़ी क़रीब से होकर गुजरता है तो वो टूट सकता है. 

space

6- दुनिया का पहला सैटेलाइट ब्रिटेन ने लांच किया था जिसका नाम ब्लैक एरो (Black Arrow) था. 

reddit

7- एक अंतरिक्ष सूट को बनाने में 12 मिलियन डॉलर यानी लगभग 80 करोड़ 10 लाख रुपये खर्च होते हैं.

quora

8- मंगल ग्रह पर कम गुरुत्व के कारण पृथ्वी पर 100 किलोग्राम वाले व्यक्ति का वजन वहां 38 किलोग्राम होगा. 

phirbhi

9- पृथ्वी, मंगल, बुध व शुक्र आंतरिक ग्रह (Inner Planets) कहलाते हैं, क्योंकि ये सूर्य के अधिक नज़दीक होते हैं.

myaptitude

10- सौरमंडल 4.6 बिलियन वर्ष पुराना है. वैज्ञानिकों का अनुमान है कि ये 5000 मिलियन वर्ष और अस्तित्व में रहेगा. 

sscadda

11- चांद पर कदम रखने वाले पहले व्यक्ति नील आर्मस्ट्रांग थे. नील ने 20 जुलाई 1969 को अपना बांया पैर सर्वप्रथम चंद्रमा पर रखा था. 

manchestereveningnews

12- अंतरिक्ष यात्रियों द्वारा चंद्रमा पर छोड़े गए पैरों व टायरों के निशान कभी भी ग़ायब नहीं होंगे, क्योंकि वहां पर ऐसा करने के लिए हवा नहीं है. 

researchgate

ये भी पढ़ें- क्या आप जानते हैं कि अंतरिक्ष में महिला एस्ट्रोनॉट्स अपने पीरियड्स कैसे मैनेज करती हैं?

13- सौरमंडल का सबसे ऊंचा पर्वत ओलंपस मॉन्स (Olympus Mons) है जो कि मंगल पर स्थित है. ये विशाल ज्वालामुखी चट्टान 21.9 किमी ऊंचा है.  

sketchfab

14- वैज्ञानिकों के मुताबिक़, बृहस्पति ग्रह के 67 उपग्रह हैं. अब तक केवल 53 का ही नामकरण किया गया है. बृहस्पति ही ऐसा ग्रह है जिसके सबसे ज़्यादा उपग्रह हैं.

alphafacts

15- साल 1969 के ‘अपोलो मिशन’ में ऑरेंज फ्लेवर वाले एक ड्रिंक को चांद पर ले जाया गया था. ये पहला मिशन था, जिसमें इंसानों ने पहली बार चांद पर कदम रखा था.  

astronomytrek

16- भारतीय मूल की सुनीता विलियम्स पहली महिला अंतरिक्ष यात्री हैं, जो अंतरिक्ष में 188 दिन रुकी थीं. वो अंतरिक्ष जाने वाली भारतीय मूल की दूसरी महिला के तौर पर भी विख्यात हैं.  

britannica

17- जॉन ग्लेन अंतरिक्ष में जाने वाले दुनिया के सबसे उम्रदराज व्यक्ति थे. उस वक्त उनकी उम्र 77 साल थी. 3 बार पृथ्वी की परिक्रमा कर चुके ग्लेन अंतरिक्ष में जाने वाले अमेरिका के तीसरे अंतरिक्ष यात्री भी थे. 

hindi

18- रूस की वेलनटीना तेरेश्कोवा (Valentina Tereshkova) दुनिया की पहली और सबसे कम उम्र की महिला अंतरिक्ष यात्री थीं. वलेंटीना ने 16 जून 1963 को रूस की राजधानी मॉस्को से अंतरिक्ष यान ‘Vostok 6’ में अपना सफ़र शुरू किया था. 

twitter

19- सौरमंडल का सबसे गर्म ग्रह शुक्र है. शुक्र के वायुमंडल में कई प्रकार की गैसें पाई जाती हैं जो कि ‘ग्रीन हाउस इफ़ेक्ट’ का कारण बनती हैं. इसीलिए शुक्र अधिक गर्म ग्रह है, जबकि बुद्ध, सूर्य के सबसे क़रीब है.  

aajtak

20- अंतरिक्ष में यदि आप किसी के सामने खड़े होकर तेज़ चिल्लाएंगे, तो भी वो आपकी आवाज़ सुन नहीं पाएगा. ऐसा इसलिए, क्योंकि वहां पर आवाज़ को एक स्थान से दूसरे स्थान तक पहुंचाने का कोई माध्यम नहीं है. 

syfy

क्या आप इन महत्वपूर्ण बातों को जानते थे पहले?

ये भी पढ़ें- अंतरिक्ष की सैर कर इतिहास रचने वाले राकेश शर्मा को इससे पहले करना पड़ा था इन दिक्कतों का सामना