दुनिया के हर देश के अपने नियम और क़ानून हैं. इनमें से कुछ नियम-क़ानून बहुत ही अजीबो-ग़रीब होते हैं, जिन्हें जानने के बाद आश्चर्य होता है. ऐसे ही कुछ अजीबो-ग़रीब क़ानून हमारे पड़ोसी देश पाकिस्तान (Pakistan) के भी हैं. अजीबो-ग़रीब क़ानून के मामले में पाकिस्तान पहले नंबर पर है. इन्हीं क़ानूनों की वजह से पाकिस्तान की दुनियाभर में आलोचना भी की जाती है. 

pakistan's weird law
Source: ythisnews

ये भी पढ़ें: कलाश जनजाति: पाकिस्तान के पहाड़ों में बसा वो समुदाय जो बाहरी दुनिया से अलग जीता है ज़िंदगी

आइए जानते हैं कुछ अन्य अजीबो-ग़रीब पाकिस्तान के क़ानूनों के बारे में:

1. पढ़ाई की फ़ीस पर टैक्स लगता है

Education Tax
Source: wp

पाकिस्तान में अगर कोई स्टूडेंट अपनी पढ़ाई पर 2 लाख से ज़्यादा ख़र्च करता है, तो उसे 5 प्रतिशत टैक्स देना पड़ता है. यही वजह है कि वहां पर कम लोग पढ़ाई करते हैं.

ये भी पढ़ें: जानिये भारत में होकर भी इस स्टेशन में एंट्री के लिये क्यों ज़रूरी है पाकिस्तानी वीज़ा?

2. फ़ोन छूने के लिए इजाज़त लेनी पड़ती है

dont touch phone without permission
Source: ytimg

पाकिस्तान में अगर कोई ग़लती से किसी दूसरे का फ़ोन छूता है तो इसे ग़ैर-क़ानूनी माना जाता है और उसे सज़ा का प्रावधान है. ऐसा करने वाले को 6 महीने जेल की सज़ा हो सकती है.

3. यहां जाने पर है रोक

dont go israel
Source: wp

पाकिस्तान के किसी भी नागरिक को इज़रायल जाने की इजाज़त नहीं है. यहां की सरकार की तरफ़ से इज़रायल जाने के लिए वीज़ा नहीं दिया जाता है.

4. गर्लफ़्रेंड के साथ रहने पर होती है कार्रवाई

jail imprisonment
Source: sentinelassam

पाकिस्तान में अगर कोई लड़का अपनी गर्लफ़्रेंड के साथ रहते हुए पकड़ा जाता है, तो उसे जेल की सज़ा होती है. यहां पर शादी से पहले लड़के और लड़की की दोस्ती को ग़ैर-क़ानूनी माना जाता है.

5. अंग्रेज़ी अनुवाद ग़ैर-क़ानूनी

english translation
Source: parsistrans

पाकिस्तान में अल्लाह, मस्जिद, रसूल या नबी शब्दों का इंग्लिश ट्रांसलेशन करना ग़ैर-क़ानूनी है. अगर कोई ऐसा करता है, तो उसके ख़िलाफ़ सख़्त कार्रवाई की जाती है.

आपको बता दें, कुछ समय पहले सिंध प्रांत में एक अजीबो-ग़रीब विधेयक का प्रस्ताव पेश किया गया था, जिसके अनुसार, 18 साल की उम्र में लोगों की शादी करना अनिवार्य है. इसके अलावा जो इस क़ानून को नहीं मानेगा उसे सज़ा मिलेगी. पाकिस्तानी राजनेताओं ने इसके पीछे की जो वजह दी है वो ये है कि इससे सामाजिक बुराइयों और बच्चों से बलात्कार को रोका जा सकेगा.