ऑस्ट्रेलिया में केवल कंगारू (Kangaroo) ही नहीं, बल्कि कोआला (Koalas) भी काफ़ी मशहूर है. कोआला ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में वृक्षों पर रहने वाला दुर्लभ प्रजाति का शाकाहारी स्तनधारी जानवर है, जो अपने शिशुओं को कंगारू की तरह अपने पेट के पास बनी थैली में रखता है. ऑस्ट्रेलिया की दुर्लभ प्रजाति एक यौन संक्रामक रोग की वजह से ख़तरे में पड़ गया है. ये फ़ैसकोलार्कटिडाए (Phascolarctidae) प्रजाति का आख़िरी दुर्लभ जानवर है.

ये भी पढ़िए: दुनिया का वो एकमात्र ‘बुलेट प्रूफ़’ जानवर, जो हर तरह के हमले से ख़ुद को आसानी से बचा लेता है

दरअसल, साल 2019 और 2020 में ऑस्ट्रेलिया के जंगलों की आग (Bushfires) के कारण लगभग 60,000 से अधिक कोआला (Koalas) मारे गए थे. 10 फ़रवरी, 2022 को ऑस्ट्रेलिया ने कोआला को एक लुप्तप्राय प्रजाति (Endangered Species) के रूप में नामित किया था. इस प्रजाति को 10 साल पहले कमज़ोर (Vulnerable) के रूप में वर्गीकृत किया गया था. ऑस्ट्रेलिया के पूर्वी और दक्षिणी क्षेत्रों के तटीय क्षेत्रों में पाये जाने वाले इस जानवर की कई ख़ासियतें हैं.

wwf

चलिए अब आप भी ऑस्ट्रेलिया में पाए जाने वाले इस छोटे से जानवर के बारे में जान लीजिए-

1- कोआला (Koalas) अपने मोटे,बड़े सिर, बिना पूंछ वाले शरीर, गोल कानों और चम्मच के आकार की नाक से पहचाना जाता है. इसके शरीर की लंबाई 60-85 सेंटीमीटर होती है, जबकि वजन 4-15 किलोग्राम होता है. कोआला का रंग ‘सिल्वर ग्रे’ या ‘चॉकलेट ब्राउन’ होता है.

2- ऑस्ट्रेलिया के क्वींसलैंड, विक्टोरिया, न्यू साउथ वेल्स और दक्षिण ऑस्ट्रेलिया में पाया जाने वाला कोआला (Koalas) दुनिया के उन ख़ास जंगली जानवरों में से एक है जो पूरी तरह से शाकाहारी है. ये ख़ास तरह का जानवर सिर्फ़ ऑस्ट्रेलिया में ही पाया जाता है.

The koala is an iconic Australian Animal

wwf

ये भी पढ़ें- बिना बाल के ये 10 क्यूट जानवर किसी डरावने सपने से कम नहीं लग रहे हैं

3- कोआला (Koalas) ऑस्ट्रेलिया के पूर्वी हिस्से में मौजूद यूकेलिप्टस के जंगलों में ये जानवर देखने को मिल जाते हैं. ये 1 दिन में क़रीब 1 किलोग्राम यूकेलिप्टस की पत्तियां खा जाते हैं. ये पत्ते ही इसका एकमात्र और मुख्य भोजन है.

wwf

4- ऑस्ट्रेलिया के इस ख़ास जानवर को ‘नो ड्रिंक’ के नाम से भी जाना जाता है, क्योंकि ये लगभग न के बराबर पानी पीता है. दरअसल, इनके शरीर में पानी की पूर्ति पत्तियों में मौजूद नमी से पूरी हो जाती है. कोआला का मुख्य भोजन यूकिलिप्सट के पत्ते हैं.

wwf

5- कोआला (Koalas) एक ऐसा जानवर है, जिसके बारे में कहा जाता है कि, ये 22 से 24 घंटे लगातार सोता रहता है. यही कारण है कि इसे दुनिया का सबसे अधिक सोने वाला जानवर भी कहा जाता है.

6- कोआला (Koalas) क्लैमाइडिया नाम की बीमारी से पीड़ित है, जो यौन संबंधों के दौरान फैलने वाला रोग है. इस रोग की वजह बैक्टीरिया का संक्रमण है. ये रोग मनुष्यों को भी होता है.

ये भी पढ़ें- ये 18 अजीबोगरीब जीव Alien नहीं, ​बल्कि इसी दुनिया के जानवर हैं