हमारा देश पुरुष प्रधान देश है. इसलिये यहां हर छोटी-छोटी चीज़ में पुरुषों को आगे रखा जाता है. चूंकि हिंदुस्तान पुरुष प्रधान है, तो इसलिये हम महिलाओं से कई उम्मीदें भी की जाती हैं. ये उम्मीदें आज की पाली हुई नहीं हैं, बल्कि महिलाओं से इन उम्मीदों की रीत-सदियों से चली आ रही है. मैं भी एक लड़की हूं, इसलिये नहीं चाहती कि ये समाज मुझसे कुछ चीज़ों की उम्मीद रखे. वही उम्मीद जो घर की बाकि महिलाओं से की जाती है.

कृपया मुझसे इन चीज़ों को लेकर कोई उम्मीद न करें:

1. शादी के बाद सभी लोगों के खाना खाने के बाद ही मैं खाना खाऊंगी.

Cooking
Source: indianwomenblog

2. घर के हर फ़ंक्शन में मेरा पहले पहुंचना ज़रूरी नहीं होना चाहिये.

Katreena
Source: bollywood

3. शादी के बाद सुबह सबसे पहले उठना.

tumhari sulu
Source: upperstall

4. काम दोनों करते हैं, फिर ऑफ़िस से घर आने पर लड़की से खाना बनाने की उम्मीद क्यों?

ki ka
Source: qrius

5. हर चीज़ के लिये मैं ही धैर्य क्यों रखूं?

taapsee
Source: indiatoday

6. सारे रीति-रिवाज़ मुझे पता होंगे, ऐसा क्यों सोचना?

Wedding
Source: matrimonybazaar

7. सब्ज़ी में नमक का सही अंदाज़ा मुझे ही क्यों होना चाहिये?

Salt
Source: nbcnews

8. बिना बोले हमसे ही क्यों उम्मीद की जाती है कि हमें सब समझ आना चाहिये.

Cooking
Source: theurbanlist

9. ग़लत बात पर मुझे ही चुप रहने की सलाह क्यों?

thappad
Source: shethepeople

10. सेविंग के नाम पर मैं ही अपनी इच्छाएं क्यों मारूं?

Saving
Source: thebalance

11. बच्चों के ग़लत करने पर ताने खाने का हक़ सिर्फ़ मुझे ही नहीं देना चाहिये.

fawad
Source: indiatvnews

12. हर बार हर चीज़ के लिये मैं Adjust नहीं कर सकती.

Good News
Source: koimoi

ये बात सिर्फ़ मेरी ही नहीं है, किसी भी महिला या लड़की से इस तरह की दकियानूसी बातों की उम्मीद पालना ग़लत है. लड़की या महिला होने से पहले हम एक इंसान हैं.

Women के और आर्टिकल पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.