मैरी क्यूरी के पिता फ़िज़िक्स के टीचर थे और उनकी मां एक स्कूल में पढ़ाती थीं. बचपन से ही पढ़ाई के माहौल में पली-बढ़ी मैरी पढ़ाई में तो निपुण थीं घर के कामों में भी कुशल थीं. मैरी को उनकी बुद्धिमानी और उपलब्धियों के चलते दो बार नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था और वो पहली महिला थीं जिन्हें ये सम्मान दो बार मिला. देश में 1901 से लेकर 2018 तक महिलाओं को 52 बार नोबेल पुरस्कार दिया जा चुका है.

Marie Curie
Source: elespanol

मैरी क्यूरी एक ऐसी महिला थीं, जिनके लिए कुछ भी असंभव नहीं था. इतनी बड़ी शख़्सियत होने के बावजूद वो कभी मीडिया के सामने नहीं आना चाहती थीं. जब 1911 में उन्हें केमिस्ट्री में रेडियम के शुद्धिकरण और पोलोनियम की खोज के लिए दोबारा नोबेल पुरस्कार मिला तो एक संवाददाता उनसे मिलने उनके घर गया.

Marie Curie
Source: petesperspective

मैरी बहुत ही साधारण सी महिला थीं, वो अपने घर के कामों में लगी एक कोने में बैठी थीं. तभी संवाददाता को लगा कि वो नौकरानी हैं, उसने सवाल किया, आप यहां काम करती हैं? उन्होंने जवाब दिया, हां. कहिए क्या है? उसने फिर सवाल किया, आपकी मालकिन घर पर हैं? उन्होंने जवाब दिया, नही. उसने फिर, पूछा कब लौटेंगी? उन्होंने जवाब दिया, पता नहीं. उसने फिर सवाल किया कि आप उनके बारे में कुछ बता सकती हैं?

Marie Curie
Source: indiatoday

इसके बाद मैरी क्यूरी ने संवाददाता से कहा कि वो इतना कह गईं है कि अगर कोई उनके बारे में पूछे तो बस ये बोलना कि एक व्यक्ति को दूसरे व्यक्ति के बारे में उत्सुक होने की बजाय उसकी विचारधारा और सोच के लिए उत्सुक होना चाहिए. मीडिया से आए उस व्यक्ति को ये पता ही नहीं था कि वो जिनसे इतनी देर से सवाल कर रहा है वो ख़ुद मैरी क्यूरी थीं.

Marie Curie
Source: jstor

आपको बता दें, मैरी ने अपनी पढ़ाई फ़्रांस से की, जहां वो भौतिक शास्त्री पियरे क्यूरी से मिलीं. मैरी और पियरे दोनों एक लैब में काम करते थे इसी दौरान दोनों ने एक-दूसरे को पसंद किया और 26 जुलाई 1895 को उन्होंने शादी कर ली. इसके बाद दोनों ने मिलकर रेडियो एक्टिविटी की खोज की. इसके लिए पहली बार मैरी और पियरे को 1903 में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया. मैरी पेरिस यूनिवर्सिटी की पहली महिला प्रोफेसर भी थीं.

Marie Curie
Source: businessinsider

Women के और आर्टिकल पढ़ने के लिए ScoopWhoop हिंदी पर क्लिक करें.