Histrory of Science: 21वीं सदी में साइंस ने काफ़ी तरक्की कर ली है. आज वैज्ञानिकों ने दुनिया के लगभग सभी रोगों का इलाज़ ढूढ़ लिया है. कोरोना जैसी जो नई बीमारियां आई हैं वैज्ञानिकों ने उसकी वैक्सीन भी खोज निकाली है. आज मेडिकल क्षेत्र में एक से बढ़कर एक उपकरण आ चुके हैं जो इंसान की जान बचाने में कारगर साबित हो रहे हैं, लेकिन आज से 100 साल पहले ऐसा नहीं था. साइंस उस वक़्त अपने प्रारंभिक दौर में था. तब इतने अच्छे मेडिकल उपकरण भी नहीं हुआ करते थे.

Source: theconversation

इसलिए आज हम आपके लिए 19वीं सदी के कुछ ऐसे मेडिकल उपकरण लेकर आये हैं, जिन्हें देखकर आप अपना इलाज कराना ही छोड़ देते-

1- French Brass Syringe (1630 - Early 1700s)  

ये कोई आम सिरिंज नहीं है. ब्रास की बनी इस फ़्रेंच सिरिंज से 17वीं सदी में डॉक्टर ख़ून निकालने या इंजेक्शन देने का काम किया करते थे.  

Source: theconversation

2- Artificial Leeches (1840 - Early 1900s) 

1800's के दशक में एक निश्चित समय के बाद रक्तस्राव को बहुत सारी बीमारियों का इलाज़ माना जाता था. इस दौरान ख़ून निकलने के लिए धातु के इस सिलेंडर नुमा उपकरण का इस्तेमाल किया जाता था. लोग ज़िंदा जोंक को शरीर पर रख देते थे ताकि वो ख़राब ख़ून चूस सके. इसके बाद इस उपकरण के माध्यम से जोंक को मारकर निडिल से ख़राब ख़ून बाहर निकाल लिया जाता था. 

Source: daily

3- Enema Syringe (1866 – Early 1900s)

19वीं सदी की ये Self-Administering जापानी एनीमा सिरिंज भी उस दौर में काफ़ी मशहूर थी. इस अनोखे सिरिंज में एक Piston and Reservoir लगे होते थे. इसे कोई भी इंसान ख़ुद ही ऑपरेट कर सकता था.

Source: theconversation

4- Osteotome (1830 - Early 1900s) 

19वीं सदी में इस उपकरण का इस्तेमाल हड्डियों को काटने में किया जाता था. ये प्रक्रिया बेहद दर्दनाक और जोखिम भरी होती थी. इस उपकरण में हथौड़ा, छेनी और आरी जुड़ी हुई होती थी. इस प्रक्रिया में इलाज़ सफ़ल होने के चांस बेहद कम होते थे. 

Source: daily

5- Iron Lung Respirator (1927 - Early 2000s) 

ये दुनिया की पहली 'लाइफ़ सपोर्ट' मशीन थी. पोलियो और लकवा ग्रस्त मरीज़ जिन्हें सांस लेने में दिक्कत होती थी उनके लिए ये मशीन बेहद कारगर हुआ करती थी. इस मशीन के अंदर कुछ समय बिताने के बाद मरीज़ ठीक हो जाया करते थे. 

Source: daily

6- Lithotomy (1740s - 1830s) 

तलवार की तरह दिखने वाले इस लंबे से उपकरण का इस्तेमाल स्टोन के मरीज़ों का इलाज करने में किया जाता था. इसका इस्तेमाल मूत्राशय के स्टोन को तोड़ने, पकड़ने और खींचने में किया जाता था. इसे मूत्रमार्ग और मूत्राशय में डाला जाता था. ये प्रक्रिया बेहद दर्दनाक हुआ करती थी. 

Source: daily

7- Ecraseur (1880 - 1902) 

इस उपकरण का इस्तेमाल सन 1870 के दशक में Ovarian Tumours और Haemorrhoids के उपचार में किया गया था. इस उपकरण के वायर लूप को ख़ून की आपूर्ति को रोकने वाले Unwanted Growth हिस्से के आसपास रखा जाता था. फिर इसे धीरे-धीरे बंद करके टाइट किया जाता था. 

Source: daily

8- Arrow Remover (1500s)

1500's के दशक के इस उपकरण के बारे में अधिक जानकारी तो नहीं है, लेकिन इसका इस्तेमाल किसी चोट या घाव की स्थिति जानने में किया जाता था. इस उपकरण को घाव वाली जगह पर डाला जाता था. इसके माध्यम से घाव की सफ़ाई करने और उसमें दवा डालने का काम भी किया जाता था. 

Source: daily

9- Bullet Extractor (1500s) 

इस उपकरण को युद्ध के दौरान तैयार किया था. इसका इस्तेमाल शरीर में घुसी गोली को निकालने के लिए किया जाता था. इस उपकरण की मदद से गहराई में गई बुलेट को भी निकाल लिया जाता था. ये बुलेट के आस पास वाले हिस्से को काटने में भी सक्षम था. 

Source: daily

10- Tonsil Guillotine (1866 – Early 1900s) 

19वीं सदी के इस उपकरण का इस्तेमाल टॉन्सिल को तोड़ने करने के लिए किया जाता था. 1860 के दशक में इस्तेमाल होने वाले इस उपकरण को इसकी अभेद्य प्रकृति और रक्तस्राव की उच्च दर के कारण हमेशा के लिए बंद कर दिया गया था.   

Source: daily

आपको कैसे लगे ये अनोखे मेडिकल उपकरण?