17वीं सदी में जब भारत पर मुगलिया सल्तनत का परचम लहराता था. उस वक़्त छत्रपति शिवाजी महाराज ने स्वराज का झंडा बुलंद किया और देश के सबसे मज़बूत मराठा साम्राज्य की नींव रख दी. शिवाजी महाराज एक बहादुर, बुद्धिमान और निडर शासक थे. वो न तो कभी दुश्मनों के आगे झुके और न ही कभी गौरवशाली मराठा साम्राज्य की सीमाओं में विस्तार करना छोड़ा. उन्होंने अपने प्रशासन और सैन्य कौशल के दम पर अपने साम्राज्य का विस्तार दक्कन और मध्य भारत तक किया.

shivaji
Source: indianexpress

शिवाजी ने इस काम के लिए अपनी बड़ी सेना के साथ ही घातक हथियारों का सहारा लिया. इनमें से कुछ हथियार तो ऐसे हैं, जिन्हें ख़ुद शिवाजी महाराज ने दुश्मनों का ख़ात्मा करने के लिए इस्तेमाल किया. शायद आपको उस बाघ नख के बारे में तो जानकारी होगी, जिससे शिवाजी ने अफ़ज़ल ख़ान को मौत के घाट उतारा था.

आज हम आपको कुछ ऐसे ही हथियारों के बारे में बताएंगे, जिनका इस्तेमाल शिवाजी महाराज के शासनकाल में मराठाओं ने किया था. 

1. तलवार

sword
Source: pinterest

एक भारतीय तलवार जो मध्यकाल में एक बेहतरीन हथियार मानी जाती थी. इसमें एक घुमावदार ब्लेड होता है और उसमें लकड़ी का एक हैंडल लगा होता था. हैंडल में ही उंगलियों के लिए गार्ड भी दिया रहता था. ये नुकीला और धारदार हथियार था, जो दुश्मन के सीने के आरपार हो जाता था. 

ये भी पढ़ें: प्राचीन भारत के वो 10 घातक हथियार, जिनके आगे खड़ा होना मौत को दावत देना है

2. फ़िरंगी

Firangi
Source: blogspot

ये बोलचाल का एक शब्द है, जिसका इस्तेमला विदेशियों के लिए किया जाता है. चूंकि इस तलवार का यूरोपीय डिज़ाइन था, इसलिए इसे 'फिरंगी' कहा जाता है. इसमें एक सीधा ब्लेड होता है जो एक तरफ से नुकीला होता है और दूसरी तरफ से छह इंच मोटा. इस यूरोपीय तलवार ने शिवाजी को 'भवानी' और 'जगदम्बा' तलवारों को भी बनाने के लिए प्रेरित किया था.

3. शमशीर

Shamshir
Source: blogspot

ये हथियार ओरिजनली कहां का है, इस बारे में जानकारी नहीं है. लेकिन फारसी में इसका नाम शमशीर है. शमशीर की ख़ास बात ये थी कि ये फारसी और अरबी तलवार का मिश्रण थी. चूंकि, फारसी तलवार आमतौर पर सीधी और अरबी तलवार घुमादार होती है, इसमें दोनों ही विशेषताएं थीं. मराठाओं ने इसका इस्तेमाल दुश्मनों के ख़िलाफ़ किया था.

4. खंड

Khanda
Source: blogspot

इस तलवार के दोनों तरफ तेज़ धार होती थी. इसकी चौड़ाई हैंडल पर कम होती है, लेकिन लंबाई में बड़ी होती थी. मध्य और ऊपरी भाग में चौड़ा होने के कारण इस तलवार का इस्तेमाल दुश्मनों को दो टुकड़ों में काटने के लिए किया जाता था. इसमें कोई नुकीला सिरा नहीं होता था.

5. ख़ंजर

Khanjar
Source: blogspot

इसका इस्तेमाल क़रीबी मुकाबले में होता था. ये दोधारी हथियार लंबाई में छोटा, घुमावदार और नुकीले सिरे वाला होता है. इसे रखने के लिए म्यान भी होती है. कहा जाता है कि इसका ओरिजन ओमान में हुआ, लेकिन इसका नाम अरबी है.

6. कटार

Kataar
Source: blogspot

इसे भी क़रीबी मुकाबले में इस्तेमाल किया जाता था. इसमें 'H' आकार के हैंडल वाला एक छोटा ब्लेड होता है. खंजर की तरह ये भी एक म्यान में ढका होता है. छोटा होने के कारण इसे आसानी से कमर में बांधा जा सकता था और ज़रूरत पड़ने पर तुंरत बाहर निकाल सकते थे.

7. गुप्ती

Gupti
Source: blogspot

ये एक छोटी, नुकीली, लेकिन असरदार तलवार है. इसके नुकीले सिरे से दुश्मन के पेट को आसानी से छेदा जा सकता है. ये लकड़ी के बने म्यान से ढका होता है जिससे ये अनुमान लगाना कठिन होता है कि कोई व्यक्ति शस्त्र ले जा रहा है या लाठी.

8. बिछवा

Bichwa
Source: quoracdn

ये एक भारतीय खंजर है जिसका एक सिरा घुमावदार है और दूसरा नुकीला. इसमें आसानी से पकड़ने और हमला करने के लिए एक छोटा लूप वाला मूठ लगा होता है.  

9. कुरहाड

Kurhaad
Source: blogspot

कुल्हाड़ी को मराठी कुरहाड बोलते थे. लोहे की बना ये हथियार बेहद घातक था. इसका इस्तेमाल दुश्मन की खोपड़ी खोलने के लिए किया जाता था.


10. बाघ नख

Waagh nakha
Source: lauritz

बाघ नख का मतलब बाघ के नाखूनों से है. शिवाजी महाराज ने इसी हथियार से अफ़जल ख़ान को मारा था. इस हथियार की ख़ासियत ये थी कि इसे आसानी से छिपाया जा सकता था और ज़रूरत पड़ने पर अचानक से हमला कर सकते थे.