दिल्ली का दिल 'कनॉट प्लेस' युवाओं के बीच काफ़ी मशहूर है. ये हैपनिंग जगह शॉपिंग के अलावा अनलिमिटेटड फ़ूड वैराइटी के लिए भी काफ़ी मशहूर है. 'कनॉट प्लेस' का इतिहास बेहद पुराना है. ये आज से नहीं, बल्कि अंग्रेज़ों के ज़माने से ही इतना फ़ेमस रहा है. इस जगह की सबसे ख़ास बात ये है कि यहां पर आपको हर वर्ग के लोग देखने को मिल जायेंगे. 

'कनॉट प्लेस' में आज भी आपको 100 साल से अधिक पुरानी कई दुकानें मिल जाएंगी. कुछ समय के साथ तरक्की करने लगीं तो कुछ अब बंदी की कगार पर हैं. इन्हीं में से एक 'उत्तम साड़ियां' भी है जो अगले महीने हमेशा के लिए बंद होने जा रहा है. दिल्ली के अलावा मुंबई और कोलकाता में भी कुछ ऐसी ही आइकॉनिक दुकानें, कैफ़े और पुस्तक भंडार हमेशा के लिए बंद होने जा रहे हैं

1- Uttam’s Sarees 

'कनॉट प्लेस' की मशहूर दुकान 'उत्तम की साड़ी' की स्थापना 1939 में हुई थी. आज़ादी से पहले और आज़ादी के बाद उत्तम की साड़ियां महिलाओं द्वारा ख़ूब पसंद किये गए. 82 साल पुरानी ये आइकॉनिक दुकान 31 मार्च को हमेशा के लिए बंद हो जाएगी. 

Source: indianexpress

2- Full Circle and Cafe Turtle 

दिल्ली के ख़ान मार्केट में स्थित 'Full Circle and Cafe Turtle' स्टोर भी हमेशा के लिए बंद कर दिया गया है. दिसंबर 2000 में खोला गया ये कैफ़े लेखकों, पत्रकारों, कलाकारों, पुस्तक प्रेमियों के बीच काफ़ी मशहूर था. इसकी शुरुआत 'हिंद पॉकेट बुक्स' के मालिक पूनम और शेखर मल्होत्रा ने की थी.

Source: tripadvisor

3- Ghantewala 

दिल्ली के चांदनी चौक में स्थित 225 साल पुरानी मिठाई की मशहूर दुकान 'घंटेवाला' साल 2015 में बंद कर दी गई थी. इसकी स्थापना 1790 में लाला सुख लाल जैन ने की थी, जब शाह आलम द्वितीय दिल्ली के मुगल सम्राट थे. 'घंटेवाला' अन्दाज़-ए-हलवाई लड्डू, कराची हलवा, काजू कतली, डोडा बर्फी और पिस्ता बर्फी जैसी कुछ प्रतिष्ठित मिठाईयों के लिए मशहूर था.

Source: eazydiner

4- Regal Cinema 

भारत के सबसे पुराने सिनेमाहॉल में से दिल्ली के कनॉट प्लेस स्थित 'रीगल सिनेमा' को साल 2017 में बंद कर दिया गया था. इस ऐतिहासिक सिंगल स्क्रीन थियेटर को 1932 में बनाया गया था. ये कभी बॉलीवुड और हॉलीवुड फ़िल्मों के प्रीमियर का प्रमुख स्थल हुआ करता था. सन 1940 में फ़िल्म 'गॉन विद द विंड' का प्रीमियर 'रीगल' में ही हुआ था. आख़िरी दिन इस थियेटर में राज कपूर की फ़िल्म 'मेरा नाम जोकर' और 'संगम' प्रदर्शित की गई थीं.

Source: dnaindia

5- Chitra Cinema 

मुंबई का प्रतिष्ठित 'चित्रा सिनेमा' लगभग 7 दशक तक सफलतापूर्वक चलने के बाद साल 2019 में बंद हो गया. इस सिंगल स्क्रीन सिनेमाहॉल को कमाई नहीं होने के चलते बंद कर दिया गया था. ये मुंबई का पहला वातानुकूलित सिनेमाहॉल था. आख़िरी दिन इस थियेटर में रात 9:30 बजे 'स्टूडेंट ऑफ द ईयर 2' प्रदर्शित की गई थी

Source: twitter

7- Cafe Samovar 

मुंबई का प्रतिष्ठित 'कैफ़े समोवर' एक जमाने में अमिताभ बच्चन, एमएफ़ हुसैन और वीएस नायपॉल जैसे बुद्धिजीवियों और सेलेब्स का पसंदीदा गंतव्य स्थान हुआ करता था. साल 2015 में 5 दशकों तक चलने के बाद ये आइकॉनिक कैफ़े भी हमेशा के लिए बंद हो गया.

Source: indianexpress

8- Rhythm House 

क़रीब 7 दशकों तक चलने के बाद साल 2016 में मुंबई का ये प्रतिष्ठित 'म्यूज़िक स्टोर' चोरी और नई तकनीक की चुनौतियों से जूझते हुए बंद हो गया. सन 1948 में स्थापित ये 'म्यूज़िक स्टोर' फ़िल्मों के समृद्ध और विविध संग्रह के लिए जाना जाता था. मुमताज, शम्मी कपूर, एआर रहमान, जाकिर हुसैन समेत कई बड़ी हस्तियों को अक्सर यहां देखा जाता था. 

Source: indianexpress

9- Bourne & Shepherd 

कोलाकाता में स्थित दुनिया का सबसे पुराना ऑपरेशनल फोटोग्राफ़ी स्टूडियो 'Bourne & Shepherd' साल 2016 में 176 सालों के बाद हमेशा के लिए बंद हो गया. इस प्रतिष्ठित स्टूडियो की स्थापना 1840 में ब्रिटिश फ़ोटोग्राफ़र सैमुअल बॉर्न और चार्ल्स शेफ़र्ड ने की थी.

Source: commons

10- Elite Cinema 

कोलकाता का प्रतिष्ठित सिंगल-स्क्रीन थिएटर Elite Cinema भी साल 2018 में हमेशा के लिए बंद हो गया था. इस सिनेमाहॉल की स्थापना सन 1940 में की गई थी. आर्थिक तंगी के चलते इसे बंद करना पड़ा था. 

Source: indianexpress

कैसी लगी आपको हमारी ये कोशिश?