दुनिया का इतिहास कई दर्दनाक घटनाओं का गवाह है. मगर द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान जिस तरह का नरसंहार हुआ, वैसा पहले कभी नहीं हुआ था. ऐसी ही एक भयानक घटना एक रेलवे लाइन के निर्माण के कारण भी हुई थी, जिसमें 1 लाख से ज़्यादा लोगों की मौत हो गई थी. इस रेलवे लाइन को बनाने का निर्णय 1942 में जापान ने World War II  के दौरान थाईलैंड और बर्मा को जोड़ने के लिए किया था. आज हम आपको इस 'डेथ रेलवे' (Death Railway) की ख़ूनी कहानी बताने जा रहे हैं.

Death Railway
Source: thedailybeast

ब्रिटिश सेनाओं से मुकाबला करने के लिए बिछाई गई रेलवे लाइन

द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान थाईलैंड पर जापानी सेनाओं का क़ब्ज़ा हो गया. थाईलैंड चूंकि ब्रिटिश उपनिवेश बर्मा के क़रीब था, इसलिए जापानियों के लिए ये सबसे मुफ़ीद जगह थी. हालांकि, जापान के लिए बर्मा के मोर्चे पर ब्रिटिश-अमेरिकी सेनाओं से लड़ रही अपनी फ़ौजों तक रसद पहुंचाना मुश्किल था. उस वक़्त समुद्री रास्तों पर दुश्मन सेनाओं का कब्ज़ा था. ऐसे में जापानियों को इस रेलमार्ग को बनाने की जरूरत थी.

www2
Source: nma

ये भी पढ़ें: 60 लाख कंकालों से भरा पड़ा है ये ‘मौत का साम्राज्य’, कहते हैं इसे 'कब्रों का तहखाना'

हालांकि दूसरे विश्व युद्ध के बहुत पहले थाई-बर्मा रेलवे लाइन की योजना बनायी गयी थी. लेकिन घने जंगलों में सड़कों के अभाव और विशाल पहाड़ों के कारण इस प्रोजेक्ट पर काम शुरू नहीं हो पाया. फिर WWII से पहले 1942 में जापानियों ने दक्षिण पूर्व एशिया पर विजय हासिल कर वहां के 60,000 लोगों को बंदी बना लिया था. इन युद्ध बंंदियों में ऑस्ट्रेलियाई, ब्रिटिश, अमेरिकी और डच सैनिक थे. 

गंदगी, भुखमरी और बीमारियों का शिकार हुए मज़दूर और युद्ध बंदी


सितंबर 1942 में बर्मा में और नवंबर 1942 में थाईलैंड में निर्माण शुरू हुआ. इस रेल रूट को बनाने में कई साल लगते, लेकिन जापानियों ने इसे एक साल में ही बनाने की योजना बनाई. इसके लिए उन्होंने 60,000 युद्ध बंदियों के साथ ही 2.50 लाख दक्षिण पूर्व एशियाई मज़दूर भी काम में लगाए.  

Thailand
Source: geoffreykayemuseum

इस भीषण परियोजना में काम करने वाले लोगों को बिल्कुल भी सुविधाएं मुहैया नहीं थी. उन्हें ठीक से न खाना दिया जाता था और न ही औज़ार. ये लोग बेहद गंदगी में रहते थे. इनसे 18-18 घंटे तक काम लिया जाता था. बारिश हो या कड़ी धूप, इन लोगों से जबरन लगातार काम कराया जाता था. काम न करने वालों को भयानक सज़ाएं दी जाती थीं. दलदली इलाके में खतरनाक मच्छरों से अधिकांश बंधक मज़दूरों को डेंगू, मलेरिया जैसी घातक बीमारियां हो गईं.

एक लाख मज़दूरों की हुई मौत

Japanese forces
Source: wp

लगातार मुश्किल हालात में काम करने से इन बंधक मज़ूदरों की दिन-प्रतिदिन हालत ख़राब होती गई. दवाइयां न मिलने से इनकी हालत बद से बदतर हो गई. ऐसे में हर रोज़ मज़दूरों और युद्ध बंदियों की मौत होने लगी. बताया जाता है कि 415 किमी लंबी इस रेल लाइन को बनाने में क़रीब 80 हज़ार एशियाई मज़दूर और 14 हज़ार के क़रीब युद्ध बंदी मारे गए. अनुमान के मुताबिक, लगभग हर पांच कैदियों में से एक की मौत इस रेलवे मार्ग को बनाने में हुई थी. इतनी बड़ी संख्या में लोगों के मरने के कारण ही ये रेल लाइन 'डेथ रेलवे' नाम से मशहूर है.