नवाबों के शहर लखनऊ के बारे में बहुत कुछ लिखा जा चुका है. इस शहर की तारीफ़ों में बहुत कुछ कहा भी गया है. फिर चाहें इसका लज़ीज़ खाना हो, शानदार इमारतें हों या फिर तहज़ीब. हालांकि, इसके बाद भी लखनऊ के बारे में ऐसी कई चीज़ें हैं, जिससे बहुत से लोग अभी भी अनजान हैं.

आज हम इस शहर के बारे में आपको ऐसी जानकारियां देंगे, जिन्हें शायद आपने पहले कभी नहीं सुना होगा.

1. चारबाग़ स्टेशन शतरंज की बिसात सा नज़र आता है 

लखनऊ का चारबाग रेलवे स्टेशन लगभग 97 साल पुराना है और अवधी, मुगलई और राजपूताना स्कूल ऑफ़ आर्किटेक्चर के सबसे खूबसूरत नमूनों में से एक है. स्टेशन परिसर को इस तरह डिज़ाइन किया गया है कि ये ऊपर से शतरंज की बिसात जैसा दिखता है.

2. गांधी-नेहरू मुलाकात

लखनऊ रेलवे स्टेशन वो स्थान है जहां महात्मा गांधी पहली बार पंडित जवाहर लाल नेहरू से मिले थे. उनकी ये मुलाकात दिसंबर 1916 में हुई थी, जबकि स्टेशन ने 1923 में काम करना शुरू किया था.

3. बेमिसाल है बड़े इमामबाड़े की संरचना

लखनऊ का बड़ा इमामबाड़ा गुरुत्वाकर्षण के नियम मज़ाक उड़ाता नज़र आता है. यहां एक हॉल है, जिसकी लंबाई लगभग 163 फीट और चौड़ाई 60 फीट है. इसमें कोई खंभा नहीं है. खंभे के बिना बने इस हॉल की छत 15 मीटर से ज्यादा ऊंची है. ये हॉल लकड़ी, लोहे या पत्‍थर के बीम के बाहरी सहारे के बिना खड़ी विश्‍व की सबसे बड़ी संरचना है.

4. लक्ष्मणपुर बना लखनऊ

कहा जाता है कि लखनऊ, लक्ष्मणपुर के प्राचीन प्रांत का एक हिस्सा था, जिस पर भगवान राम के भाई लक्ष्मण का शासन था. तब से, इस शहर का नाम कई बार बदला. पहले लक्ष्मणपुरी से बदलकर लखनपुर हुआ बाद में लखनावती और लखनौती होता हुआ लखनऊ हो गया.

5. सबसे ऊंचा घंटाघर

हुसैनाबाद का लखनऊ घंटाघर भारत का सबसे ऊंचा क्लॉक टॉवर है, जो 130 मीटर की ऊंचाई पर गर्व से खड़ा है.

6. संस्कृति और कला

लखनऊ ने कथक जैसे शास्त्रीय नृत्य को दुनिया के आगे पेश किया और इस कला के विभिन्न कलाकारों ने इस शहर में जन्म लिया है. इसके अलावा, कई महान संगीतकारों को भी नवाब के दरबार में जगह मिली थी और कुछ महानतम कवि और संगीतकार भी इस शहर में पले-बढ़े और हुनरमंद बने.

7. विद्रोह का स्थल

लखनऊ अपनी विशिष्ट अवधी संस्कृति के लिए जाना जाता है, जो मुगल काल के दौरान विकसित हुई थी, लेकिन बहुत से लोग इस तथ्य से अवगत नहीं हैं कि सबसे पहले आज़ादी का बिगुल फ़ूंकने वाले शहरों में से एक लखनऊ भी था. नवाबों का शहर अंग्रेज़ी हुकूमत के ख़िलाफ़ सबसे पहले बगावत करने वालों जन्मस्थान रहा है.

8. सबसे लंबा रेस-कोर्स

3.5 किमी ट्रैक लंबाई वाला भारत का सबसे लंबा रेस-कोर्स लखनऊ शहर में ही है. क्या आप इसके बारे में जानते थे?

9. देश में पहली STD कॉल

लखनऊ भारत का पहला शहर है जिसे सब्सक्राइबर ट्रंक डायलिंग (STD) कॉल से जोड़ा गया था. इन कॉल्स का यूज़ अन्य भारतीय राज्यों के ऑपरेटरों को जोड़ने के लिए किया जाता है.

10. एशिया का सबसे बड़ा पार्क

लखनऊ का 'जनेश्वर मिश्र पार्क' एशिया का सबसे बड़ा पार्क है. गोमती नगर के प्रमुख स्थानों में से एक, इस पार्क के निर्माण में 2 साल लगे और ये लंदन के Hyde Park से प्रेरित है.

11. वन्यजीवों का संरक्षण

लखनऊ में 'कुकरैल उद्यान' लुप्तप्राय मगरमच्छ प्रजातियों का प्रजनन स्थल है. क्या आप इसके बारे में जानते थे?

12. गोमती में मिलता है दुर्लभ पत्थर

लखनऊ की गोमती नदी में एक दुर्लभ प्राकृतिक और आध्यात्मिक शैल पत्थर गोमती चक्र मिलता है. इस सफ़ेद से दिखने वाले पत्थर को काफ़ी शुभ माना जाता है. कहा जाता है कि इस पत्थर से विष्णु दोषों को ठीक किया जाता है और शहर में कई धार्मिक अनुष्ठानों में इसका इस्तेमाल होता है.

13. बड़ा मंगल

'बड़ा मंगल' भगवान हनुमान की पूजा करने का दिन है. ये लखनऊ में एक अनूठा त्योहार है क्योंकि देश के अन्य हिस्सों की अपेक्षा यहां हनुमान भक्‍तों के बीच इस उत्‍सव की अधिक धूम होती है. ये त्योहार लखनऊ के गंगा-जमुनी तहज़ीब का प्रतीक है. अलीगंज में हनुमान मंदिर सभी भक्तों के लिए केंद्र बिंदु है. ऐसा इसलिए है क्योंकि कहा जाता है कि ये अनुष्ठान यहीं से शुरू हुआ था.

14. हज़रतंज से निकलते हैं 4 हाईवे

शहर के हजरतगंज चौराहे से 4 नेशनल हाईवे निकलते हैं, एनएच-24 दिल्ली के लिए है, एनएच 25- मध्यप्रदेश जाता है. एनएच-56 वाराणसी और एनएच-28 बिहार की तरफ़.

Source: Knocksense