इतिहास बड़ी से बड़ी लड़ाइयों का गवाह रहा है, जिसमें कई घातक हथियारों का इस्तेमाल किया जाता था. इसमें सबसे घातक तोप को माना गया है. एक ऐसा हथियार जिसमें बारूदी गोला भरकर दूर फेंका जाता था. इसमें भारी तबाही मचाने की पूरी क्षमता होती थी. ख़ासकर, क़िलों की मज़बूत दीवारों, दरवाज़ों और बड़ी सेना को नेस्तनाबूद करने के लिए तोप का इस्तेमाल किया जाता था. आज भी राष्ट्रों द्वारा अत्याधुनिक तोपों का इस्तेमाल किया जाता है. 

वहीं, 1313 ईस्वी से यूरोप में तोप के इस्तेमाल के प्रत्यक्ष प्रमाण मिलते हैं. ऐसे भी प्रमाण मिलते हैं कि पानीपत की पहली लड़ाई में बाबर ने तोप का प्रयोग किया था. ये तो थी तोप के विषय में संक्षिप्त जानकारी, अब आपको इसी कड़ी में बताते हैं उस ख़ास भारतीय तोप के बारे में, जिसे दुनिया की सबसे बड़ी तोप कहा गया है. वहीं, यह भी कहा जाता है कि इसके एक गोले ने बड़ा तालाब बना डाला था. आइये, जानते हैं इस तोप की पूरी कहानी. 

दुनिया की सबसे बड़ी तोप 

jaivana cannon
Source: dreamstime

इस ताक़तवर तोप का नाम है ‘जयबाण’, जो जयपुर के जयगढ़ क़िले में स्थित है. इसे दुनिया की सबसे बड़ी तोप माना गया है. जानकारी के अनुसार, इस विशाल तोप को 1720 ईसवी में जयगढ़ क़िले में स्थापित किया गया था. इस तोप का निर्माण जयपुर क़िले के प्रशासक राजा जयसिंह ने करवाया था.   

रियासत की सुरक्षा  

jaiwana cannon
Source: amarujala

इस विशाल और भारी भरकम तोप का निर्माण राजा जयसिंह ने अपनी रियासत की सुरक्षा के लिए करवाया था. इस तोप का निर्माण ख़ास रणनीति के तहत किया गया था.

कभी नहीं ले जाया गया क़िले से बाहर  

jaigarh fort
Source: tourmyindia

जानकर हैरान होगी कि इस तोप को कभी क़िले से बाहर नहीं ले जाया गया है. वहीं, इसका उपयोग किसी युद्ध में भी नहीं किया गया. इसकी वजह है इस तोप का अधिक वज़न. इसका वजन 50 टन बताया जाता है. इसे दो पहिया गाड़ी में रखा गया है. जिस गाड़ी पर इसे रखा गया है उसके पहियों का व्यास 4.5 फ़ीट बताया जाता है. इसके अलावा, इसमें दो और अतिरिक्त पहिए लगाए हैं. इन पहियों का व्यास 9.0 फ़ुट बताया जाता है. 

50 किलो का गोला   

jaivana cannon
Source: navrangindia

आपको जानकर हैरानी होगा कि जयबाण तोप में 50 किलों का गोला इस्तेमाल होता था. इससे अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि यह कितना बड़ी तोप है. इसके बैरल की लंबाई 6.15 मीटर है. बैरल के आगे की ओर नोक के निकट की परिधि 7.2 फ़ीट है और पीछे की परिधि 9.2 फ़ीट है. बैरल के बोर का व्यास 11 इंच है और छोर पर बैरल की मोटाई 8.5 इंच है. वहीं, बैरल पर दो कड़ियां भी लगाई गई हैं, जिनका इस्तेमाल क्रेन से तोप को उठाने के लिए किया जाता था.

तोप को बनाने के लिए कारखाना  

jaivana cannon
Source: wikipedia

इस विशाल तोप को बनाने के लिए जयगढ़ में ही कारखाने का निर्माण करवाया गया था. वहीं, इसकी नाल भी भी यहीं विशेष सांचे में ढाल कर तैयार की गई थी. इस कारखाने में और भी तोपों का निर्माण करवाया गया था. विजयदशमी के दिन इस विशाल तोप की पूजा की जाती है.   

गोले ने बना दिया था तालाब

jaivana cannon
Source: amarujala

जैसा कि हमने ऊपर बताया कि इस तोप का इस्तेमाल किसी युद्ध में नहीं करा गया और न ही इसे अपनी जगह से हिलाया गया. लेकिन, इसका एक बार परीक्षण किया गया था. कहते हैं कि परीक्षण के लिए जब इससे गोला दाग़ा गया, तो वो 35 किमी दूर जाकर गिरा. यह गोला चाकसू नामक क़स्बे में गिरा जहां एक बड़ा तालाब बन गया था. कहते हैं वो अब तालाब में पानी भी है, जो लोगों के काम आता है.