राजनीति उठा-पटक और काफ़ी बैठकों के बाद भारत का एक टुकड़ा अलग हुआ और पाकिस्तान के नाम से एक नया मुल्क़ विश्व के मानचित्र में जुड़ा. जहां एक और पंडित जवाहर लाल नेहरू भारत का पहले प्रधानमंत्री बने, वहीं दूसरी ओर पाकिस्तान की संविधान सभा की दूसरी बैठक में मोहम्मद अली जिन्ना को पाकिस्तान के पहले राष्ट्रपति के रूप में चुना गया. यह तारीख़ थी 11 अगस्त 1947. इसी दिन ही पाकिस्तानी झंडे को औपचारिक रूप से सहमति मिली. आइये, जानते हैं कि मोहम्मद अली जिन्ना ने पाकिस्तान में अपने भाषण में क्या-क्या कहा.    

क़ायदे आज़म की उपाधि  

jinnah
Source: britannica

संविधान सभा द्वारा पाकिस्तान के राष्ट्रपति चुने जाने के एक दिन पहले ही मोहम्मद अली जिन्ना को क़ायदे आज़म की उपाधि दी गई थी. जिन्ना ने इसी हैसियत से अपने सपनों में देश में पहला भाषण दिया.    

हिंदू-मुस्लिम समानता पर भाषण  

speech of jinnah
Source: dailytimes

अपने इस भाषण में मोहम्मद अली जिन्ना ने हिंदू मुस्लिम समानता की बात कही. उन्होंने कहा कि पाकिस्तान मुल्क़ में सभी लोग बराबर हैं, चाहे वो मुस्लिम हो या हिंदू. आप अपनी मर्जी से मंदिर या मस्जिद कहीं भी जा सकते हैं. उन्होंने यह भी कहा कि सभी इस देश के निवासी हैं और सभी को भी समान अवसर दिए जाएंगे बिना किसी भेदभाव के.   

भाषण में कुछ अलग ही दिखे जिन्ना   

jinnah speech
Source: dailymotion

यह सभी जानते हैं कि पाकिस्तान की मांग जिन्ना ने क्यों की थी. उन्हें डर था कि कहीं भारत में हिंदुओं की आबादी के आगे मुस्लिमों के अधिकार कुचल न दिए जाएं. इसी डर की वजह से उन्होंने एक अलग मुल्क़ पाकिस्तान की मांग की, लेकिन अपने भाषण में जब उन्होंने हिंदू-मुस्लिम एकता की बात की, तो यह काफ़ी चौंकाने वाली बात लगी. वो अपने मिजाज़ से बिल्कुल अलग बात कर रहे थे.   

पारदर्शी सरकार  

jinnah
Source: britannica

जिन्ना ने अपने भाषण में यह बात भी रखी कि उनकी सरकार एक पारदर्शी सरकार होगी. उनकी सरकार धर्म की आज़ादी देने के साथ-साथ समानता के अधिकारों और सही क़ानून पर काम करेगी. वहीं, जिन्न ने लोगों से यह भी कहा कि लोगों की संपत्ति, उनके जीवन और उनकी आस्थाओं की भी रक्षा सरकार की ज़िम्मेदारी रहेगी.

बंटवारे पर रखी अपनी बात   

India partition
Source: washingtonpost

मोहम्मद अली जिन्ना बंटवारे पर भी बोले. उन्होंने पाकिस्तानी जनता से कहा कि संयुक्त भारत में आपको कभी बराबरी का दर्जा नहीं मिलता. इसलिए, जो बंटवारा हुआ है उसे अंतिम और अटूट मानें.    

संयुक्त भारत को ठहराया ग़लत

jinnah
Source: wwnorton

जिन्ना ने संयुक्त भारत के विचार पर कहा कि यह कभी सफल नहीं होता. वहीं, जो लोग बंटवारे को नापसंद कर रहे थे, जिन्ना ने उनसे कहा कि इसके अलावा और कोई समाधान नहीं था. साथ ही जिन्ना ने ज़ोर देकर कहा कि संयुक्त भारत का नतीजा बहुत ही भयानक होगा और यह बात आने वाला समय सही साबित कर देगा.   

पाकिस्तान बना कट्टर मज़हबी देश   

Pakistan
Source: dnaindia

जिन्ना के किए वादों और भाषण में रखी बात तब फीकी पड़ गई, जब पाकिस्तान एक कट्टर मज़हबी देश बनकर उभरा. अब पूरा विश्व जानता है कि लोगों की सुरक्षा, ज़िम्मेदारी और धार्मिक स्वतंत्रता को लेकर पाकिस्तान के अंदर क्या हालात हैं.