बीते कुछ सालों में वैज्ञानिकों ने देश और दुनिया में Prosthetics यानी कृत्रिम अंगों को बहुत ही विकसित कर लिया गया. अब तो रियल दिखने वाले और कंप्यूटर से चलने वाले Prosthetics मार्केट में उपलब्ध हैं. आपने भी अपने आस-पास कुछ लोगों को इस तरह के कृत्रिम अंगों को इस्तेमाल करते देखा होगा. ये कृत्रिम अंग सदियों से दिव्यांग लोगों की मदद करते आ रहे हैं. मिस्र की ममी में भी कृत्रिम अंग पाए गए हैं. ये बताता है कि नकली अंगों का चलन कितना पुराना है.


चलिए आज कुछ कुछ तस्वीरों के ज़रिये जानने की कोशिश करते हैं कि सदियों पहले लोग किस तरह के Prosthetics यूज़ करते थे.

1. 19वीं शताब्दी में भी स्टील से बना हाथ इस्तेमाल होता था. 

pinterest

ये भी पढ़ें: प्राचीन भारत के वो 10 घातक हथियार, जिनके आगे खड़ा होना मौत को दावत देना है

2. 1920 में मिला एक अधूरा चेहरा. 

wikimedia

ये भी पढ़ें: कंघे से लेकर कैंची तक, 15 तस्वीरों में देखिये प्राचीनकाल में रोज़र्मरा की चीज़ें कैसी दिखती थीं

3. प्रथम विश्व युद्ध में इस्तेमाल की जाने वाली नकली नाक.

wikimedia

 4. प्रथम विश्व युद्ध में इस्तेमाल किए जाने वाले कृत्रिम हाथ. 

5. मिस्र में मिला एक पुराना कृत्रिम पैर का अंगूठा. 

pinterest

6. 17वीं शताब्दी में मिली एक नाक. 

scroll

7. 1600 में इस्तेमाल किए जाने वाले आंखों के अलग-अलग कृत्रिम पार्ट्स.

wellcomecollection

8. 16वीं शताब्दी में बना लोहे का एक पैर. 

springer

9. लोहे से बना एक पुराना नकली हाथ. 

10. 19वीं सदी का एक कृत्रिम पैर.

empr

11. 1915 में मिला लकड़ी से बना कृत्रिम हाथ. 

wordpress

12. मिस्र की एक ममी के साथ मिला एक कृत्रिम अंग. 

theiet

13. रोम में मिला एक पुराना दांतों को रोकने वाला तार(Denture). 

ameritech

14. Elizabethan प्रोस्थेटिक हाथ. 

15. 1904 में मिला लकड़ी से बना कृत्रिम हाथ. 

sciencemuseumgroup

16. 19वीं शताब्दी का चमड़े से बना नकली हाथ.  

piximus

17. एक पुराना लोहे का हाथ. 

pinterest

18. नाज़ियों के यातना शिविर Auschwitz में मिले कृत्रिम अंग. 

nytimes

19. 18वीं शताब्दी में तांबे के अंदर दूसरी धातु मिलाकर बने कृत्रिम दांत. 

20. द्वितीय विश्व युद्ध में इस्तेमाल किया गया एक कृत्रिम पैर. 

pinterest

21. 16वीं शताब्दी में मिली कांसे से बनी नाक. 

wikimedia

सच में कृत्रिम अंगों की दुनिया में पहले से लेकर अब तक ज़मीन-आसमान का अंतर आ गया है.