Rabindranath Tagore Birthday: 7 May 1861 को ही महान कवि, लेखक, समाज सुधारक और संगीतकार रवींद्रनाथ टैगोर का जन्म हुआ था. रवींद्रनाथ टैगोर (Rabindranath Tagore)का जन्म कोलकाता के जोरासंको में हुआ था. छोटी सी उम्र में बहुत कुछ कर गुज़रने वाले रवींद्रनाथ टैगोर ने साहित्य को देश से लेकर विदेश तक पहचान दिलाई. 

इतिहास की किताबों में हमने रवींद्रनाथ टैगोर के बारे में बहुत कुछ सुना और जाना है. पर शायद अब भी उनके जीवन से जुड़ी बहुत सी बातें नहीं जानते हैं.

चलिये टैगोर साहब की जंयती पर जानते हैं उनसे जुड़े कुछ रोचक तथ्य.

1. रवींद्रनाथ टैगोर नोबेल पुरस्कार (Nobel Prize)जीतने वाले पहले भारतीय थे, जिन्होंने 1919 में नाइट हुड की उपाधि लौटा दी थी.  

rabindranath tagore
Source: britannica

2. 25 मार्च 2004 को विश्व भारती विश्वविद्यालय से उनका नोबेल पुरस्कार चोरी हो गया था.  

rabindranath tagore birthday
Source: telegraphindia

3. टैगोर साहब ने सिर्फ़ भारत का ही राष्ट्रगान नहीं लिखा है, बल्कि उन्होंने बांग्लादेश का राष्ट्रगान 'आमार सोनार बांग्ला' भी लिखा है. 

rabindranath tagore Birthdya
Source: dutchartinstitute

4. रवींद्रनाथ टैगोर को 'गुरुदेव' की उपाधि महात्मा गांधी ने दी थी. 

rabindranath tagore facts
Source: news18

5. उनके पिता चाहते थे कि वो 'बैरिस्टर' बने, जिसकी पढ़ाई करने के लिये वो इंग्लैंड भी गये थे. 

rabindranath
Source: parabaas

6. रवींद्रनाथ टैगोर की 3500 कविताओं का डिजिटल संग्रह भी है.  

rabindranath tagore facts
Source: parabaas

7. कहते हैं महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन ने रवींद्रनाथ टैगोर को घर पर आंमत्रित किया था, जहां उन्होंने धर्म और विज्ञान पर बात की. इसका ज़िक्र 'नोट ऑन द नेचर ऑफ़ रियलिटी' में किया गया है. 

rabindranath tagore Jaynti
Source: news18

8. ऐसा कहा जाता है कि जब वो दिल की बीमारी से ठीक होने की प्रक्रिया में थे रहे थे, तो उन्हें भूखे रहना अच्छा लगता था. 

rabindranath tagore study
Source: parabaas

9. गांधी जी को 'महात्मा' की उपाधि देने का श्रेय भी टैगौर साहब को जाता है. 

rabindranath tagore facts
Source: britannica

10. बचपन में उन्हें प्यार से 'रबी' कह कर बुलाया जाता था.  

rabindranath tagore facts
Source: touristdestinationoffbeat

जिस तरह से रवींद्रनाथ टैगोर से जुड़ी ये बातें सच हैं, उसी तरह ये भी सच है कि उनके जैसी महान शख़्सियत हिंदुस्तान को दोबारा नहीं मिलेगी.