दुनिया में ऐसे बहुत से रहस्य से हैं, जिनसे इंसान अनजान है. लोगों के किस्सों-कहानियों ने ऐसे रहस्यों को और भी उलझाऊ बना दिया है, मगर इसके साथ ही जिज्ञासा को भी कई गुना बढ़ा दिया. फिर चाहें वो किसी जगह से अचानक जहाजों के ग़ायब होने की घटना हो या फिर अमेरिका द्वारा एलियंस को क़ैद करने की कहानियां, लोगों के तमाम दावों ने दुनियाभर का ध्यान ऐसी जगहों पर केंद्रित किया है.

आज हम आपको उन जगहों की कुछ satellite images दिखाने जा रहे हैं, जो कई सालों से पूरी दुनिया के लिए रहस्य बनी हुई हैं. 

1. एरिया-51, साउथवेस्ट नेवादा

Area 51
Source: ranker

अमेरिका के नेवादा में स्थित एरिया-51 को दुनिया की सबसे रहस्यमयी जगह माना जाता है. अमेरिकी वायु सेना द्वारा संचालित नेवादा टेस्ट और ट्रेनिंग रेंज के अंदर स्थित इस एरिया को 1955 में बनाया गया था. तगड़ी सुरक्षा वाली इस जगह पर किसी को भी आने-जाने की इजाजत नहीं. कुछ कंस्पिरेसी थ्योरीज में दावा है कि अमेरिका ने यहां एलियंस को क़ैद कर रखा है और उनपर तरीक़े से प्रयोग हो रहे हैं. मीडिया में भी कई बार ख़बर आई कि नेवादा के आसपास के लोग हरी चमक के साथ कुछ रहस्यमयी चीजों या यूं कहें कि UFO को उड़ता देख चुके हैं. ये जगह इतनी गुप्त थी सालों तक ख़ुद अमेरिकी लोगों को इस जगह के बारे में जानकारी नहीं थी. पहली बार इसके अस्तित्व को साल 2013 में सीआईए ने आधिकारिक तौर पर स्वीकार किया था.

ये भी पढ़ें: ये हैं दुनिया की 15 सबसे ख़तरनाक सड़कों की Satellite Images, इन पर चलना मौत से खेलने जैसा है

2. स्टोनहेंज, विल्टशायर, इंग्लैंड

Stonehenge
Source: ranker

इंग्लैंड में प्राचीन पत्थरों की संरचना स्टोनहेंज की कहानी पांच हजार साल से चली आ रही है. 17वीं शताब्दी में पहली इसकी खुदाई शुरू हुई थी, लेकिन आज भी पता नहीं लग पाया है कि आख़िर इन्हें किसने और कैसे बनाया गया होगा. हालांकि, जांच से पता चला है कि स्टोनहेंज का निर्माण लंबे अरसे तक किया गया था, जिसके शुरुआती हिस्से लगभग 3000 या 2500 ईसा पूर्व बनाए गए थे. कुछ इस रहस्यमयी जगह को कब्रगाह तो कुछ लोग कैलेंडर और उपचार केंद्र भी मानते हैं. कुछ ऐसे भी लोग हैं, जो इस जगह संबंध जादू और एलियंस से जोड़ते हैं. 

3. बरमूडा ट्राइएंगल, अटलांटिक महासागर

Bermuda Triangle
Source: ranker

बरमूडा ट्राइएंगल या शैतानी टापू जो कि अटलांटिक महासागर के पश्चिमी हिस्से में स्थित है, जिसका रहस्य अभी भी अनसुलझा हुआ है. कहा जाता है कि बरमूडा ट्राइएंगल में कई एयरक्राफ्ट और जहाज बड़े ही रहस्यमय परिस्थिति में गायब हो चुके हैं. कुछ लोगों का मानना है कि बरमूडा ट्राइएंगल के अंदर एक छुपा हुआ पिरामिड है, जो चुम्बक की तरह हर चीज़ को खींचता है. यही वजह है कि इसे "डेंजर रीजन" का नाम दिया गया. कहा जाता है कि साल 1492 में अमेरिका की यात्रा के दौरान कोलम्बस ने भी इस एरिया में कुछ चमकता हुआ देखा, जिसके बाद उनका मेगनेटिक कंपास ख़राब हो गया. इसके अलावा कई ऐसी घटनाएं हुई, जिसका कारण आज तक कोई नहीं जान पाया है.

4. स्कॉटलैंड हाइलैंड्स में लॉक नेस झील

Loch Ness

स्कॉटलैंड से कुछ मील की दूरी पर लॉक नेस झील को मॉन्स्टर का घर माना जाता है. इस झील के गहरे काले पानी में कभी-कभी अजीब लहरें उठती हैं और पानी की सतह पर पानी के बीच से एक रहस्यमयी सिर सामने आ जाता है. कथित तौर इस दैत्य की पहली तस्वीर 1934 में सामने आई थी. हालांकि, कुछ लोग इसे सच नहीं मानते, मगर बहुत से लोगों को इस बात पर यक़ीन है. इस कहानी पर यक़ीन करने वाले इस दैत्य की खोज में लाखों डॉलर फूंक चुके हैं, लेकिन अब तक उनके हाथ कुछ नहीं लगा. 

5. लॉस्ट कॉलोनी, रानोके द्वीप, अमेरिका

Lost Colony Of Roanoke
Source: ranker

रानोके कॉलोनी अंग्रेजों द्वारा अमेरिका में कॉलोनी स्थापित करने का पहला प्रयास था. हालांकि, उनकी ये योजना तब विफ़ल हो गई, जब ये कॉलोनी रहस्यमय परस्थितयों में गायब हो गई. दरअसल, Roanoke पर एक कॉलोनी शुरू करने के लिए 1587 में जॉन व्हाइट के नेतृत्व में 115 लोगों ने Roanoke की यात्रा की. उसके बाद जॉन अतिरिक्त आपूर्ति के लिए इंग्लैंड वापस लौटे, लेकिन उस वक़्त एक युद्ध के वजह से वो द्वीप लौट न सके. जब बाद में वो वापस आए, वहां से कॉलोना का नामोनिशान मिट चुका था. बस सुबूत के तौर पर पत्थर पर गुदा एक शब्द मिला था-  CROATOAN. ऐसे में अनुमान लगाया गया कि उन पर स्थानीय जनजातियों ने हमला किया होगा. हालांकि, आज भी ये महज़ एक अनुमान ही है. उस वक़्त से इस कॉलोनी को 'लॉस्ट कॉलोनी' उपनाम दिया गया.  

6. फैसटॉस डिस्क, पैलेस ऑफ फैसटॉस, क्रीट टापू

Phaistos Disk
Source: ranker

मिनोअन सभ्यता के एक राजमहल के भग्नावशेष की खुदाई के दौरान रहस्यमयी फैसटॉस डिस्क मिली थी, जिसने वैज्ञानिकों को हैरान कर दिया था. इस डिस्क पर कुछ ऐसे अभिलेख लिखे हुए हैं, जिसे पढ़ने में आज तक कोई भी सफल नहीं हो पाया है. चूंकि ये डिस्क क्रीट टापू के फैसटॉस नामक जगह पर मिली थी, इसलिए इसे फैसटॉस डिस्क नाम दिया गया. तपायी हुई सख्त मिट्टी से बनी इस डिस्क की जब कार्बन डेटिंग की गई तो पता चला कि इसे ईसा पूर्व दूसरी सहस्राब्दी से भी पहले बनाया गया था. 16 सेंटीमीटर व्यास वाली इस डिस्क के दोनों तरफ सर्पिलाकार खांचे बने हैं, जिसमें अनसुलझी चित्र लिपि लिखी हुई है. आज भी ये डिस्क खोजकर्ताओं के लिए एक रहस्य बनी हुई है. 

7. सोडर चिल्ड्रन डिसअपीयरेंस, अमेरिका

Sodder Children Disappearance
Source: ranker

1945 अमेरिका के वेस्ट वर्जिनिया में सोडर परिवार के घर में आग लग गई थी. 11 लोगों के इस परिवार में 4 बच्चों और उनके पेरेंट्स की जान बच गई, लेकिन पांच बच्चे वहां से रहस्यमय तरह से गायब हो गए. किसी भी बच्चे की लाश नहीं मिली. वहीं, सबसे अजीब ये था कि आग लगने पर जब फायर डिपार्टमेंट को कॉल किय गया, तो फ़ोन ही नहीं लगा. बच्चों को बचाने की कोशिश हुई, तो सीढ़ी ही गायब थी. घटना से पहले अजीब सा शोर सुनाई दे रहा था. कुछ लोगों का मानना है कि बच्चों को किडनैप किया गया था, और बाद में भी ज़िंदा थे. 

8. ट्यूरिन में सेंट जॉन द बैपटिस्ट का कैथेड्रल, इटली

ट्यूरिन में सेंट जॉन द बैपटिस्ट का कैथेड्रल ट्यूरिन के कफ़न के लिए फ़ेमस है. ट्यूरिन का कफ़न एक लिनन का कपड़ा है, जिस पर किसी शख़्स की नकारात्मक छवि अंकित है. वैज्ञानिक अब तक यह प्रमाणित करने में विफल रहे हैं कि ये छवि कैसे बन गई. कैथोलिक समुदाय के कुछ लोग दावा करते हैं कि ये ईसा मसीह का जला हुआ कफ़न है. वर्तमान में ये ट्यूरिन (इटली) के सेंट जॉन दि बैपटिस्ट के गिरिजाघर में रखा गया है. रिसर्च के मुताबिक, ये कपड़ा क़रीब 2 हज़ार साल पुराना है. हालांकि, कुछ लोग इसे इतना पुराना नहीं मानते. बता दें, इस कपड़े पर खून के धब्बे भी बने हैं. कैथोलिक समुदाय के लिए ये कपड़ा काफ़ी पवित्र है. हालांकि, अभी तक ठोस रूप से कुछ नहीं कहा जा सकता और ट्यूरिन के कफ़न का रहस्य अभी भी बरकरार है.