Snake Temples in India. भारत के कोने-कोने में कई देवी-देवताओं के मंदिर हैं. ये वो देश हैं जहां जानवरों को समर्पित मंदिर बनाये गये हैं, उनको सम्मान देने के लिये. सर्प (Snake) को भी हिन्दू शास्त्रों में पूजनीय बताया गया है. सांपों को मारना पाप भी माना गया है लेकिन भारत में सपेरे पाये जाते हैं.

भारत में सर्पों को समर्पित कई मंदिर हैं, आज कुछ मंदिरों के दर्शन कर लीजिये- 

1. मन्नारसला मंदिर, केरल 

भारत के सबसे मशहूर सर्प मंदिरों में से एक है ये मंदिर. कहते हैं मन्नारसला मंदिर, केरल (Mannarsala Temple, Kerala) 3000 साल पुराना मंदिर है. ये मंदिर सर्पों के देवता, नागराज (Nagraja) को समर्पित है. इस मंदिर में और मंदिर के रास्ते में सर्पों की 30000 से ज़्यादा मूर्तियां हैं. नवविवाहित और संतान प्राप्त करने के इच्छुक जोड़े इस मंदिर के दर्शन करने आते हैं.

Mannarsala Temple, Kerala
Source: Blue Bird Travels

ये भी पढ़िये- देवभूमि उत्तराखंड सिर्फ़ घूमने जाने वालों, अगली बार वहां के इन 16 मंदिरों के दर्शन भी कर लेना

 2. अगसनाहल्ली नागप्पा, कर्नाटक 

अगसनाहल्ली नागप्पा (Agasanahalli Nagappa) कर्नाटक के दावणगेरे (Davangere) स्थित मंदिर है. इस मंदिर से जुड़े कई रहस्य हैं. ऋषि अगस्त्य ने यहां तपस्या की थी इसलिये इस जगह का नाम अगसनाहल्ली है. कहते हैं भगवान नरसिंहस्वामी (Lord Narsimhaswamy) यहां भगवान सुब्रमण्य (Lord Subramanya) के रूप में हैं. यहां की एक और ख़ास बात है कि यहां देवता चींटियों की पहाड़ी के रूप में हैं. कुछ लोगों का कहना है कि उन्हें यहां सोने का सांप दिखा है. 

Agasanahalli Nagappa Karnataka
Source: Quora

ये भी पढ़िये- अतुल्य भारत: देश के 6 ऐसे मंदिर जहां किसी दैवी शक्ति की नहीं बल्कि पशुओं की होती है पूजा 

3. कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर, कर्नाटक 

कर्नाटक (Karnataka) के कुक्के श्री सुब्रमण्या मंदिर (Kukke Sri Subramanya Temple) में भगवान मुरुगन या कार्तिकेय (Kartikeya) की सुब्रमण्य देव (Lord Subramanya) में पूजा होती है. सुब्रमण्य को सांपों का प्रमुख कहा जाता है. सर्प दोष निवारण के लिये भक्त यहां आते हैं.

Kukke Sri Subramanya Temple
Source: India N Sujata

 4. नागपट्टीनम मंदिर, तमिलनाडु

 नागपट्टीनम (Nagapattinam) का तमिल में मतलब होता है सांपों का देश. कहते हैं क्रिता युग में आदिशेष (आदिशेष को शेषनाग भी कहते हैं) ने यहां विष्णु की तपस्या की और तब विष्णु ने आदि शेष को अपनी शैया बनने का वर दिया.

Nagapattinam Temple Tamil Nadu
Source: Go Road Trip

 5. तिरुनागेश्वर मंदिर, तमिलनाडु 

तिरुनागेश्वर मंदिर, तमिलनाडु (Tirunageshwar, Tamil Nadu) में महादेव की पूजा नागेश्वर रूप में होती है. कहते हैं आदी शेष, दक्षण और कारकोटाकन ने यहां महादेव की पूजा की थी. यहां राहू का भी मंदिर है.

Source: Wikipedia

 6. नागरकोइल नागराज मंदिर, तमिलनाडु 

नागरकोइल नागराज मंदिर, तमिलनाडु (Nagarcoil Nagarajan Temple, Tamil Nadu) में वासुकी की पूजा होती है. इस सर्प और भगवान कृष्ण को स्थानीय लोग बहुत मानते हैं. 

Nagarcoil Nagarajan Temple, Tamil Nadu
Source: Tamil Nadu Tourism

7. भुजंग नाग मंदिर, गुजरात 

भुजिया क़िला (Bhujiya Fort) गुजरात (Gujarat) के भुज (Bhuj) और यहीं है भुजंग नाग मंदिर (Bhujang Naga Temple). ये मंदिर नागों के आख़िरी वंश का, भुजंग का क़िला था. कहते हैं ये वंश युद्ध में समाप्त हो गया. इस वंश की स्मृति में स्थानीय निवासियों ने मंदिर का निर्माण किया. नाग पंचमी के दिन हर साल यहां मेला लगता है. 

Bhujang Naga Temple Gujarat
Source: Wikipedia

8. शेषनाग झील, कश्मीर 

कश्मीर घाटी (Kashmir Valley) के कई पवित्र स्थानों में से एक है शेषनाग झील (Sheshnag Lake). कहते हैं शेषनाग ने ख़ुद ये झील बनाई थी और लोगों का मानना है कि शेषनाग अब भी यहां वास करते हैं. अमरनाथ यात्रा के दौरान भक्त इस झील के दर्शन करने भी आते हैं.   

Sheshnag Lake Kashmir
Source: Tour My India

सांप पृथ्वी का Eco-balance बनाये रखने के लिये बेहद ज़रूरी है. हमारी आपसे गुज़ारिश है कि आप उन्हें पूजे या न पूजे लेकिन बेवजह नुकसान न पहुंचाये.  

Sources- Free Press JournalThe Speaking TreeNative Planet