जॉब सैटिस्फ़ेक्शन (Job Satisfaction) एक मिथक है. कोई भी अपनी नौकरी में सौ प्रतिशत तो क्या 50 प्रतिशत भी ख़ुश नहीं होता. अगर ऐसा होता तो हम विकास ही कर रहे होते!

चाहे कितनी भी पगार हो, कितनी भी इन्सेटिव्स (Incentives) हों, हर कर्मचारी अपने दफ़्तर की बुराई ज़रूर करता है. फिर चाहे वो चाय की चुस्कियों के साथ हो यो 2 पेग मारने के बाद!

क्लाइंट से कॉल पर बात-चीत और लैपटॉप पर टकटक से काफ़ी समय पहले भी कुछ ऐसी नौकरियां ऐसी होती थी, जिनके बारे में पढ़कर अपनी नौकरी बहुत भली लगेगी. ये रही इतिहास की कुछ अति घटिया नौकरियां-

1. Resurrectionist 

Source: Wikipedia

Resurrection शब्द अंग्रेज़ी की हॉरर फ़िल्मों में सुना ही होगा. इसका मतलब है मृत को जीवित करना. 18वीं और 19वीं शताब्दी में यूनाइटेड किंगडम में एनाटॉमिस्ट्स (Anatomists) बॉडी स्नैचर्स (Body Snatchers) किराये पर रखते थे. बॉडी स्नैचर्स मृतकों के शरीर को मिट्टी से खोदकर बाहर निकालते थे. इस काम में पैसा भी ख़ूब मिलता था. दांत का एक सेट निकालने के लिए £1 तक मिलता था. इस दौर में वैज्ञानिक खोज के लिए मृतकों की बॉडी डोनेट करने का रिवाज़ न के बराबर था और शोधार्थियों को बॉडी स्नैचर्स या Resurrectionist पर ही निर्भर रहना पड़ता था.

2. Vomit Collector

Source: Ripleys Believe Or Not

 Vomit यानि उलटी Collector यानि जमा करने वाला. प्राचीन रोम में दावत पर ज़्यादा खाने के लिए मेहमान अकसर उलटी करते थे. कुछ मेहमान ख़ास पात्रों में उलटी करते और कुछ यूं ही कहीं भी फ़र्श पर कर देते. उलटी की सफ़ाई का ज़िम्मा Vomit Collector का था. 

3. Groom of The Stool 

Source: The Vintage News

सदियों तक राजाओं को भगवान के समान ही समझा गया है. राजा का ख़ुद की पॉटी साफ़ करना, सही नहीं समझा जाता था. एक उच्च वर्गीय शख़्स को Groom of The Stool का ख़िताब मिलता था. वैसे तो इस नौकरी का बहुत नाम था लेकिन ये घटिया ही था. Groom की ज़िम्मेदारी थी राजा के लिए Toilet Chair लाना और राजा के पॉटी करने के बाद उसकी Bum पोंछना. अगर राजा को कब्ज़ हो जाए तो Groom of The Stool उसे Enema भी देता था. 

4. Whipping Boy

Source: Wikipedia

15वीं-16वीं शताब्दी के बीच यूरोप में राजकुमारों को बदमाशी की सज़ा देने के लिए एक अन्य लड़के को रखा जाता था. ऐसी मान्यता थी कि राजा राजकुमारों को स्वयं भगवान चुनते थे इसलिए उन पर हाथ उठाने का सवाल ही नहीं था. राजकुमार को सबक सीखाने के लिए एक अन्य उच्च वर्गीय परिवार के लड़के को ही सज़ा दी जाती. आमतौर पर ये लड़का राजकुमार का क़रीबी दोस्त ही होता था. 

5. Proctologist या Anus Guard

Source: Quora

आज रेक्टम सर्जन (Rectum Surgeon) को Proctologist के नाम से जाना जाता है. प्राचीन मिस्र में फै़रो (Pharaoh) के तबीयत की देखभाल एक पवित्र काम माना जाता था. जब किसी फ़ैरो को ज़्यादा खाने की वजह से आंतों में गड़बड़ी महसूस होती तो Anus Guard को बुलाया जाता. Anus Guard बवासीर से जुड़ी बीमारियों का इलाज तो करता ही था इसके साथ ही फ़ैरो की पेट की सफ़ाई की ज़िम्मेदारी भी उसी की थी. Anus Guard एक सुनहरी Cannula फ़ैरो के Anus में डालता और उसके ज़रिए गर्म पानी डालता. ये तकनीक फ़ैरो ही नहीं मिस्र के आम लोग भी अपनाते थे, फ़र्क बस ये था कि आम लोग छड़ का इस्तेमाल करते थे.

6. Leech Collector 

Source: Twitter

मध्य काल में जोंक के ज़रिए इलाज बेहद आम बात थी. झील, तालाब से जोंक इकट्ठा करके मरीज़ पर रखा जाता था और मरीज़ का ख़ून निकलवाया जाता था. Leech Collector झील या तलाब में घूसता और जोंक ढूंढकर लाता.  

7. Rat Catcher 

Source: Rare Historical Photos

19वीं सदी में इंडस्ट्रीयलाइज़ेशन (Industrialisation) के साथ ही शहर बीमारी और गंदगी से भरने लगे और बीमारी फैलाने में बहुत बड़ा हाथ चूहों का था. जब हालात बद से बद्तर हो जाते तो किसी भी घर में Rat Catcher को बुलाया जाता. ये लोग हाथों से ही चूहे को पकड़ते. चूहों को मारा नहीं जाता बल्कि बेचा जाता था. 

8. Praegustator (Food Taster) 

Source: Alexander Meddings

सुनने में ये जॉब भले लज़ीज़ लग रहा हो लेकिन कई लोगों की इस वजह से मौत हो चुकी है. प्राचीन रोम में राजा को खाना देने से पहले उसे चखा जाता था और इसके लिए एक शख़्स नियुक्त किया जाता था. कई रोमन सम्राटों को विष देकर मारने की कोशिशें हुई और रिज़ल्ट ये हुआ कि Food Taster मारा गया.

9. Sin Eater 

Source: Atlas Obscura

18वीं और 19वीं शताब्दी में स्कॉटलैंड में परिवार के लोग मृतक की छाती पर ब्रेड (Bread) का टुकड़ा रखते थे. इस टुकड़े को खाने के लिए वो एक शख़्स को नियुक्त करते. ऐसी मान्यता था कि ये ब्रेड खाने वाला मरने वाले के सारे पाप अपने सिर ले लेगा. 

10. Fullers 

Source: Wikipedia

मध्यकालीन इंग्लैंड में फ़ुलर्स (Fullers) नियुक्त किये जाते थे. इनका काम ऊन को साफ़ करना था. ऊन को साफ़ करने के लिए पेशाब का इस्तेमाल किया जाता था जिसे घंटो पैर पटकर या लाठी से पीटकर साफ़ किया जाता था.

दुनियाभर में ऐसी कई तरह की नौकरियां आज भी हैं, जिन्हें उच्चवर्गीय लोग नहीं करते या करना अशोभनीय मानते हैं. 

Source- QuoraAncestryWorkopolis