हमारे यहां कहते हैं कि किसी को खाना खिलाने और पानी पिलाने से बड़ा पुण्य का काम कोई नहीं हो सकता है. शायद ही दुनिया में इस से बड़ा सुकून का काम कोई होगा?  

भारत में तो ये मन्त्र हमे बचपन से ही सिखाया जाता है. यही नहीं भूखे को खाना खिलाना हमारे यहां भगवान की पूजा समान माना जाता है. इसलिए देश के बड़े-बड़े मंदिरों में प्रतिदिन लाखों लोगों को बड़े ही प्रेम से भोजन खिलाया जाता है. आइए, आपको बताते हैं उन मंदिरों के नाम: 

1. तिरुपति मंदिर, आंध्र प्रदेश  

tirupati temple
Source: indiatoday

तिरुपति बालाजी का मंदिर भारत के सबसे लोकप्रिय मंदिरों में से एक है. हर दिन यहां लाखों श्रद्धालु आते हैं. मंदिर परिसर में इन सब को मुफ़्त में खाना परोसा जाता है. यहां इसे 'अन्नदानम' कहते हैं. यानी लोगों को निस्वार्थ भाव से खाना खिलाना.   

2. इस्कॉन मंदिर  

iskon temple
Source: thehindu

भारत में कई जगह इस्कॉन मंदिर हैं. इसका मुख्यालय हुबली, कर्नाटक में है. यहां हर दिन 5 घंटे के भीतर लगभग 1,50,000 लोगों के लिए भोजन तैयार किया जाता है. इस्कॉन फ़ॉउंडेशन ग्रामीण इलाक़ों के स्कूलों को मुफ़्त में भोजन देता है. यह दुनिया का सबसे बड़ा स्कूल लंच प्रोग्राम है. आप इसे मिड-डे मील भी कह सकते हैं.  

3. वैष्णो देवी, जम्मू  

vaishno devi
Source: curlytales

वैष्णो देवी की चढ़ाई कठिन ज़रूर है. रस्ते में कई दिक़्क़तों का सामना भी करना पड़ सकता है मगर एक चीज़ जिसको लेकर आप निश्चिन्त हो सकते हैं वो है खाना. चढ़ाई के दौरान आपको कई सारे छोटे-छोटे भोजनालय मिलेंगे. वो सभी वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड द्वारा संचालित होते हैं. जहां पर आप मुफ़्त में भोजन खा सकते हैं.  

4. जग्गनाथ मंदिर, पुरी 

jagganath temple
Source: wikipedia

जग्गनाथ मंदिर की हिन्दुओं में ख़ास मान्यता है. हिंदू धर्म के हिसाब से चार धाम बदरीनाथ, द्वारिका, रामेश्वरम और पुरी है. मान्यता है कि भगवान विष्णु जब चारों धाम पर बसे तो सबसे पहले बदरीनाथ गए और वहां स्नान किया, इसके बाद वो गुजरात के द्वारिका गए और वहां कपड़े बदले. द्वारिका के बाद ओडिशा के पुरी में उन्होंने भोजन किया और अंत में तमिलनाडु के रामेश्वरम में विश्राम किया. पुरी में भगवान श्री जगन्नाथ का मंदिर है. यहां का 'भोग' मंदिर की ख़ास विशेषता है. यह भोग चिकनी मिट्टी के बर्तन में पकाया जाता है और हज़ारों लोगों को प्रतिदिन परोसा जाता है.  

5. अन्नपूर्णाश्वरी मंदिर, चिकमंगलूर 

annapoorneshwari temple
Source: astrolika

यह मंदिर कर्नाटक में स्थित है. 400 साल पुराना यह मंदिर, देवी अन्नपूर्णेश्वरी का मंदिर है, जो सबको खाना देती हैं. हर दिन यहां हज़ारों लोगों को मुफ़्त में खाना खिलाया जाता है.  

6. भक्त श्री जलराम मंदिर, वीरपुर

Shirdi
Source: tripadvisor

गुजरात के एक गांव वीरपुर में स्थित इस मंदिर में सालों से लोगों को मुफ़्त में भोजन खिलाया जा रहा है. यहां प्रतिदिन हज़ारों लोग खाना खाते हैं.

7. भोग नन्देशेश्वर मंदिर, कर्नाटक

BHOGA NANDESHWAR
Source: economictimes

भोगा नंदेश्वर मंदिर, भारत के कर्नाटक राज्य के चिक्कबल्लापुर जिले में नन्दी पहाड़ियों के पास स्थित एक हिंदू मंदिर है. यह हिंदू भगवान शिव को समर्पित है. यह मंदिर दर्शन करने आए सभी लोगों को मुफ़्त में खाना खिलाता है.