भारत के सातवें प्रधानमंत्री और पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के बेटे थे राजीव गांधी. इनका जन्म 20 अगस्त 1944 को मुंबई में हुआ था. माना जाता है कि इनकी डिलीवरी उस समय की जानी मानी गायनोक्लोजिस्ट वीएन शिरोडकर ने कराई थी. उस दौरान इंदिरा गांधी अपनी छोटी बुआ के पास थीं. वहीं, इंदिरा गांधी के पति फ़िरोज़ गांधी और जवाहर लाल नेहरू जेल में थे, लेकिन राजीव के जन्म से कुछ दिन पहले फ़िरोज़ जेल से छुट गए थे. वहीं, आपको जानकर हैरानी होगी कि राजीव गांधी के नाम का चुनाव पंडित जवाहर लाल नेहरू ने किया था, लेकिन क्यों इनका नाम राजीव रखा गया, इसके पीछे एक दिलचस्प कहानी है, जो हम आपको इस लेख में बताएंगे.   

नाती के जन्म की ख़बर कई दिनों बाद पहुंची

nehru
Source: news18

जिस वक्त राजीव गांधी का जन्म हुआ पंडित जवाहर लाल नेहरू जेल में थे. सेंसरशिप के कारण नेहरू तक अपने नाती के जन्म की ख़बर कई दिनों बाद पहुंची. जब उन्हें पता चला, तो वो बहुत ही खुश हुए. उन्होंने जवाबी पत्र में लिखा था कि घर में किसी नए सदस्य का आगमन बचपन की याद दिलाता है और नई पैदाइश एक नई शुरुआत होती है. ये हमारा पुरर्जीवन तो है ही, साथ ही हमारी आशाओं का केंद्र भी है. कहते हैं कि जब पंडित जवाहर लाल नेहरू ने अपने नाती को चेहरा पहली बार देखा, तो उन्होंने कहा कि इसका माथा तो बिल्कुल फ़िरोज़ की तरह दिखता है. 

नाम का चुनाव 

jawaharlal nehru with rajiv
Source: business-standard

कहते हैं फ़िरोज़ गांधी नामों की लिस्ट लेकर नेहरू के पास जेल में गए थे. उस लिस्ट में से नेहरू ने राजीव नाम का चुनाव किया, क्योंकि संस्कृत में राजीव का अर्थ होता है ‘कमल’. इसके अलावा, नेहरू की पत्नी का नाम कमला था, जिनका निधन राजीव के जन्म से आठ साल पहले हुआ था. राजीव का पूरा नाम राजीवरत्न गांधी था. 

राजीव का एक और नाम 

rajiv gandhi
Source: twitter

बहुत कम लोग जानते होंगे कि पंडित जवाहर लाल नेहरू ने राजीव का एक पारसी नामस ‘बिरजीस’ भी रखा था, जिसका अर्थ होता है जुपिटर और बेशक़ीमती.

नेशनल हेराल्ड अख़बार में मैनेजिंग एडिटर

firoz gandhi
Source: dnaindia

जब राजीव गांधी 15 महीने के हुए तब फ़िरोज़ गांधी ने नेशनल हेराल्ड अख़बार में मैनेजिंग एडिटर के रूप में जुड़े. यह नेहरू द्वारा स्थापित किया गया था. वो इंदिरा और बेटे राजीव के साथ लखनऊ में रहने लगे. इंदिरा घर के काम के साथ-साथ राजीव गांधी की देखभाल में अपना ज़्यादा समय बिताती थीं. 

मशीनों से प्रेम

rajiv gandhi
Source: ifairer

राजीव बचपन से ही एक जिज्ञासु बालक थे. उन्हें मशीनों और गैजेट्स में ज़्यादा दिलचस्पी थी. कहते हैं कि जिज्ञासु प्रवृति उन्हें अपने पिता से मिली थी. राजीव के भाई संजय गांधी को भी मशीनों में काफ़ी दिलचस्पी थी.   

बेटों के लिए पिता की चाह  

firoz gandhi and rajiv gandhi
Source: indiatvnews

कहते हैं कि फ़िरोज़ गांधी चाहते थे कि उनके दोनों बेटे इंजीनियर बनें. फ़िरोज अपने बेटों के लिए खिलौने बनाते थे. साथ ही उन्हें इस ओर प्रेरित भी करते थे कि मैकेनिकल खिलौनों को कैसे अलग करके दोबारा से बनाया जाए. वहीं, इंदिरा गांधी भी बच्चों के लालन-पालन में कोई कमी नहीं रखती थीं. उनके साथ खेलती थीं और साथ ही फ़िल्में भी देखती थीं. दोनो ही माता-पिता बच्चों के लिए एक आदर्श अभिभावक थे.