पिछले ढाई सालों से वर्क फ़्रॉम होम हमारे काम का हिस्सा हो चुका है. अब घर के साथ-साथ ऑफ़िस का काम भी घर से ही हो रहा है. ऐसे में देखा जाए तो शारीरिक एक्टिविटीज़ कम हुई हैं. और बैठने के घंटों में इज़ाफ़ा हुआ है, जिससे कई तरह की समस्याएं जन्म लेने लगी हैं. इसके अलावा, घंटों तक कंप्यूटर में काम करने के चलते आंखों को भी नुकसान होता है. जैसे आंखों के सूखने से सिर दर्द होना. इन सब चीज़ों से बचने का सीधा और साधारण सा रास्ता योगा (Yoga Asanas) का है. योगा करने से शरीर को फ़िट रखने में मदद मिलती है. साथ ही कई बीमारियां भी दूर रहती हैं. अगर आप ऐसा करने में सफल हो गए तो #GoodHealthGoodYou आपके लिए ही है.

इसलिए आज आपको कुछ ऐसे योगासन (Yoga Asanas) के बारे में बताएंगे, जिन्हें आप अपने काम के दौरान भी कर सकते हैं और इन्हें करने में मुश्किल से 10 से 15 मिनट लगेंगे.

ये भी पढ़ें: WFH करते हुए अगर रखोगे इन 10 बातों का ध्यान रखेंगे तो रहोगे फ़िज़िकली और मेंटली फ़िट

Yoga Asanas

1. संतुलानासन (Santolanasana)

कैसे करें: सबसे पहले वज्रासन की अवस्था में बैठें फिर घुटनों के बल खड़े होते हुए हथेलियों के कंधे के सीधे पर ज़मीन में रखें. इसके बाद, कमर वाले हिस्से को फ़र्श से ऊपर उठाते हुए शरीर को तब तक उठाएं जब तक बॉडी पाश्चर एक दम सीधा न हो जाए. सारा ध्यान उंगलियों पर दें ताकि वो फ़र्श पर मज़बूती से टिकी रहीं. इसके बाद, एक सीध में नीचे देखें अपने गले और आंखों को बिल्कुल ठीला छोड़ दें और कुछ देर इसी अवस्था में रहें.


लाभ: इस आसन (Yoga Asanas) को करने से घुटने का ऊपरी हिस्सा यानि जांघ, बाहें, रीढ़ और पेट की मांसपेशियां और कंधे मज़बूत होते हैं. इसके अलावा, इसे करने से शरीर एनर्जेटिक तो बनता ही है सोच भी पॉज़िटिव होती है.

seema

2. नौकासन (Naukasana)

कैसे करें: इस आसन को करने के लिए अपनी टांगों को ऊपर की उठाकर घुटनों को मोड़ लें फिर शरीर के बल के आधार पर पीछे की ओर झुकें. हाथों को सामने की ओर रखकर पैर के अंगूठे को पकड़ें. ध्यान रहे कि पैरों की पोजिशन  45 डिग्री कोण में होनी चाहिए. आख़िरी में सांस को छोड़ते हुए धीरे-धीरे बॉडी को नॉर्मल पोजिशन में ले आएं.

लाभ: इसे करने से पीठ का निचला हिस्सा, पेट और पैर की मांसपेशियां स्ट्रॉन्ग होती है. साथ ही, डायजेस्टिव सिस्टम को सुधारने के साथ-साथ वज़न घटाने में भी मदद करता है. 

zeenews

3. ताड़ासन (Tadasana)

कैसे करें: अपने पैरों को जोड़कर और हाथों को कंधे के सीध में ऊपर की ओर करके एक दम सीधे खड़े हो जाएं. फइर सांस लेते हुए नाभि को अंदर की ओर खीचें और अपनी एड़ियों को उठाए रखें. इसके बाद धीरे-धीरे सांस छोड़ें और अपनी एड़ियों को वापस नीचे लाएं और उंगलियां खोल दें.
लाभ: इसे आसन को करने से दिमाग़ शांत रहता है और शरीर की मुद्रा में सुधार आता है. सेल्फ़ अवेयरनेस के लिए ये आसन अच्छा ऑप्शन है. साथ ही, जांघों, टखनों और पैरों को मज़बूत करता है.
ये भी पढ़ें: WFH के दौरान हेल्दी और फ़िट रहने के लिए अपनी डाइट में शामिल करें ये 10 फ़ूड आइटम्स 

4. वशिष्ठासन (Vasishtasana)

कैसे करें: बायीं हथेली को ज़मीन पर रखकर दाहीने हाथ को ऊपर उठाएं और अपने शरीर को दायें तरफ़ मोड़ें फिर दायें पैर को ऊपर की ओर उठाते हुए अपनी उंगलियों से सुनिश्चित करें कि आपके दोनों घुटने, एड़ी और पैर एक दूसरे के संपर्क में हैं. इस मुद्रा में आने के बाद आपका पूरा शरीर एक सीधी रेखा में होना चाहिए फिर ऐसा ही बाईं ओर से भी करें. 
लाभ: इस आसन को रोज़ करें जैसे-जैसे इस आसन को करने का समय बढ़ेगा वैसे-वैसे आपको काम करने की कैपेसिटी और Core Strong होंगे. इसके अलावा, फ़ैट कम होने के साथ-साथ कलाई और कंधे मज़बूत होते हैं.

lessons

5. प्राणामासन (Pranamasana)

कैसे करें: दोनों पैरों को मिलाकर हाथ नमस्ते की मुद्रा में जोड़कर एकदम सीधे खड़े हो जाएं. हाथों को बिलकुल हृदय के पास रखें और कोहनियों को बाहर की ओर रखें फिर आराम से सांस लें.

लाभ: इस योगासन को करने से शरीर और मन के बीच संतुलन बनाने में मदद मिलती है.

6. नेक रोटेशन (Neck Rotation)

कैसे करें: जिस कुर्सी पर बैठकर काम करते हैं उसी कुर्सी पर आराम की मुद्रा में बैठ कर गर्दन को दाईं ओर घुमाएं और गहरी सांस लें. फिर धीरे-धीरे सांस को छोड़ते हुए गर्दन को सीधे कर लें. सांस लेते हुए अपनी गर्दन को बायीं ओर मोड़ें फिर वैसे ही सांंस छोड़ते हुए वापस सेंटर में गर्दन को ले आएं. इससे गर्दन की अकड़न में आराम मिलेगा.

लाभ: इस योगासन को करने से गर्दन की अकड़न कम होती है.

totalphysiomv

7. अर्ध उत्तानासन (Ardha Uttanasana) 

कैसे करें: सबसे पहले पैरों को मिलाकर सीधे खड़े होकर सांस लें और फिर अपने हाथों को सिर के ऊपर ले जाएं. इसके बाद, सांस छोड़ते हुए कमर के बल झुकें और हाथों को सामने की ओर फैलाएं. शरीर 90 डिग्री कोण की पोजीशन में होना चाहिए. इसी पोजीशन में थोड़ी देर तक रहें और सांस लेते रहें.

लाभ: इस योगासन को करने से रीढ़ की हड्डी के लचीलेपन में स्थिरता आती है. इसके अलावा, पैर की मांसपेशियों फैलता हैं और शरीर के संतुलन बनाने में मदद मिलती है.

netdna

फ़िट और हेल्दी रहना है तो इन योगासन (Yoga Asanas) को फटाफट देख लो और करना शुरू कर दो और #GoodHealthGoodYou के इस स्लोगन को अपनी लाइफ़ में हमेशा के लिए गांठ बांधकर रख लो.