कुछ लोग ख़ुद के लिये जीते हैं. कुछ अपनी ज़िंदगी दूसरों की ज़िंदगी बेहतर बनाने में बिताते हैं. खराड़ी गांव के 29 वर्षीय योगेश भी उन लोगों में से हैं. जो अपनी ज़िंदगी का एक हिस्सा दूसरों की मदद में गुज़ार रहे हैं.

Passenger
Source: IndiaTimes

टाइम्स ऑफ़ इंडिया की रिपोर्ट के मुताबिक, योगेश पिछले पांच सालों से ठाणे के खराड़ी ज़िला रेलवे स्टेशन पर यात्रियों को मुफ़्त चाय और जलपान कराते हैं. दरअसल, योगेश ने ये नोटिस किया कि ठाणे के इस रेलवे स्टेशन पर 10 घंटे तक यात्री बिना खाये-पिये फंसे रहे. इन यात्रियों में वरिष्ठ यात्री और बच्चे भी शामिल थे. खराड़ी ज़िला रेलवे स्टेशन काफ़ी एकांत जगह पर है, जिस कारण दुकानदार सामान नहीं पहुंचा पाते.

Railway Station
Source: TOI

इन यात्रियों की मदद के लिये योगेश अपनी जमापूंजी का इस्तेमाल करते हैं. इसके अलावा उनके दोस्त और घरवाले भी इस कार्य में उनकी मदद कर रहे हैं. वहीं जब लॉकडाउन के दौरान ट्रेने बंद थीं. तब उन्होंने प्रवासी श्रमिकों के लिये धन एकत्रित करके उन्हें खाना खिलाया. योगेश की कमाई कम है, लेकिन उनके अंदर ज़रूरतमंदों की मदद करने का ज़ज़्बा है.

Passenger
Source: indiatimes

योगेश के इस नेक कार्य में साथ देने के लिये मुंबई यूनिवर्सटी के प्रोफ़ेसर डॉ. मृदुल नील भी आगे आये हैं. ताकि कोई भी यात्री भूख से परेशान न हो.

Life के और आर्टिकल्स पढ़ने के लिये ScoopWhoop Hindi पर क्लिक करें.