कोविड- 19 पैंडमिक ने सभी की ज़िन्दगी अस्त-व्यस्त कर दी. वायरस को फैलने से रोकने के लिए हम सभी ने ख़ुद को घरों में बंद कर लिया और घर से ही काम करने लगे.

असली मार पड़ी उन लोगों पर जो 'घर से काम नहीं कर सकते'. िन्हें रोटी कमाने के लिए बाहर निकलना ही पड़ता है, हम बात कर रहे हैं मज़दूरो, हाउसहेल्प की.

एक रिपोर्ट के अनुसार, 60-70% हाउस हेल्प/डोमेस्टिक वर्कर को लॉकडाउन में सैलरी नहीं मिली. कुछ भले लोगों ने अपने हाउसहेल्प को आधी/पूरी पगार देना जारी रखा. वहीं कुछ लोगों ने पैंडमिक में भी उन्हें घर पर आकर काम करने पर मजबूर किया.


और कुछ लोग ऐसे भी थे जिन्होंने न सिर्फ़ अपने हाउसहेल्प की सिर्फ़ आर्थिक मदद नहीं की पर 2 क़दम आगे निकल गए-

1. अर्चना पुरन सिंह ने अपनी हाउसहेल्प को इंस्टाग्राम स्टार बना दिया

अप्रैल के शुरुआत से ही अर्चना पूरन सिंह अपने लिव-इन हाउस हेल्प भाग्यश्री की तस्वीरें डाल रही थीं. लॉकडाउन की वजह से अर्चना के परिवार को भाग्यश्री को और क़रीब से जानने का मौक़ा मिला. अर्चना, भाग्यश्री की आर्थिक मदद कर रही है ताकी वो पैसे बचाकर अपना घर ले सके.

2. बेंगलुरू के बंदे ने हाउसहेल्प का फ़ूड का बिज़नेस शुरू करवाया

Source: News18

अंकित ने सरोज दीदी का होम कूक्ड फ़ूड बिज़नेस शुरू करवाया. सरोज दीदी काफ़ी समय से अपना बिज़नेस शुरू करना चाहती थीं. शुरुआत में ही अंकित और सरोज दीदी ने मिलकर 2 किलो क्रैब करी बेच डाली. इस ख़ूबसूरत क़िस्से को Twitter Moments India, Google Pay India, Paytm ने भी शेयर किया था.

3. एक कपल ने हाउसहेल्प की सहायता के लिए ब्रेकफ़स्ट बेचना शुरू किया

Source: Indian Express

पैंडमिक के दौर में जब ज़्यादातर लोग घर के अंदर थे अश्विनी शेनॉय और अंकुश नीलेश शाह अपने घर से बाहर निकले, अपनी हाउसहेल्प की मदद करने के लिए. अश्विनी और शेनॉय की हाउसहेल्प के पति पिछले साल बीमार पड़ गए और लक्वाग्रस्त हो गये. इस कपल ने हाउसहेल्प को पैसे देने की बात की पर वो पैसे लेने को तैयार नहीं थी. इस कपल ने कांडिवली वेस्ट में ब्रेकफ़स्ट बेचना शुरू किया. ये कपल सुबह 4 से 9:30 तक पोहा, इडली और पराठा बेचता है और उसके बाद काम पर जाता है. इस स्टॉल की सफ़लता के बाद इस कपल ने आस-पास की महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए 'अन्नपूर्णा पराठा स्टॉल' शुरू किया.

4. दानिश सैत

मई में कमिडियन दानिश सैत ने इंस्टग्राम पर एक तस्वीर शेयर की थी जिसमें वो अपने हाउसहेल्प को गाड़ी में बैठाए हुए हैं. एक रिपोर्ट के अनुसार, दानिश की हाउसहेल्प, गीता को आने-जाने में दिक्कत हो रही थी तब दानिश ने उसे खु़द लाने और घर वापस छोड़ने का निर्णय लिया.

5. पुलिस वाले ने राधे अम्मा को नौकरी दिलवाई

Source: Twitter

जुलाई में 55 वर्षीय रेसिडेंशियल कॉम्प्लेक्स की सफ़ाईकर्मी, राधे अम्मा कोविड- 19 पॉज़िटिव पाई गईं. ठीक होने के बाद भी कॉम्प्लेक्स के कई लोग उन्हें काम पर रखने में हिचकिचा रहे थे. इस घटना की जानकारी मिलने के बाद आईपीएस अफ़सर हरि किरन कॉम्प्लेक्स पहुंचे और लोगों को मनाया.